breaking news New

जगन्नाथ मंदिर पहुंचकर राजगामी संपदा के अध्यक्ष विवेक वासनिक ने की पूजा-आर्चना

जगन्नाथ मंदिर पहुंचकर राजगामी संपदा के अध्यक्ष विवेक वासनिक ने की पूजा-आर्चना

राजनांदगांव। महाप्रभु जगन्नाथ, भाई बलभद्र और बहन सुभद्रा की रथयात्रा का पर्व शहर में श्रद्धापूर्वक मनाया गया। इस अवसर पर मंदिरों में विशेष पूजा व महाआरती के साथ प्रसाद वितरण भी किया गया। श्रद्धालुओं ने रथयात्रा के मंगल अवसर पर सुख-समृद्धि की प्रार्थना की। रियासत काल में पांडादाह राजनांदगांव रियासत की राजधानी थी, और राजगामी के देख-रेख में इस मंदिर को रखा गया है।
रथयात्रा पर्व के अवसर पर रानी सूर्यमुखी देवी राजगामी संपदा समिति के अध्यक्ष विवेक वासनिक ने पांडादाह स्थित महाप्रभु जगन्नाथ मंदिर पहुंचकर पूजा-अर्चना की। श्री वासनिक ने कहा, रथ यात्रा एक प्रसिद्ध हिंदू त्योहार है। पुरी (ओडिशा) की रथ यात्रा विश्व प्रसिद्ध है। बारह महीनों में भगवान जगन्नाथ के तेरह त्योहार मनाए जाते हैं और रथ यात्रा उन्हीं में से एक है। कहा जाता है कि राजा इंद्रद्युमन की पत्नी गुंडिचा देवी की इच्छा के अनुसार यह यात्रा शुरू हुई थी, इसलिए इसे गुंडिचा यात्रा भी कहा जाता है। रथयात्रा के दिन विश्व के स्वामी भगवान जगन्नाथ रथ पर सवार होकर सर्वजन के सामने से यात्रा करते हैं। जगन्नाथ पूरे विश्व और पूरी मानव जाति के पूज्य देवता हैं, यह सार्वजनिक यात्रा हर साल आषाढ़ महीने के शुक्ल पक्ष के द्वितीया तिथि से शुरू होती है और दशमी तिथि को समाप्त होती है।
मंदिर में पूजा-अर्चना के अवसर पर श्री वासनिक के साथ राजगामी संपदा न्यास के सदस्य मिहिर झा, जिला युवा कांग्रेस के संयुक्त महासचिव आशीष रामटेके, राजकुमार यदु,  रिंकू महोबिया, वासुदेव सिंह, अमृतलाल खुंटे, एसडीओ वन विभाग खैरागढ़ तथा विजय राजपूत प्रमुखता से शामिल हुए।