breaking news New

धार्मिक भावनाओं को आहत संबन्धी बयान देने वालो के खिलाफ की जानी चाहिए कड़ी कार्रवाई : सुनिता वर्मा

धार्मिक भावनाओं को आहत संबन्धी बयान देने वालो के खिलाफ की जानी चाहिए कड़ी कार्रवाई  : सुनिता वर्मा

 हेमन्त मिश्रा

 बलौदाबाजार।  पिछले दिनों छत्तीसगढ़ क्रिश्चन फोरम के अध्यक्ष अरुण पन्नालाल एवं गुरुविंदर सिंह चड्डा के द्वारा दिये गए बाईट में कहा गया कि धर्मांतरण करने व भारतीय संविधान के अनुच्छेद 25 हमें इजाजत देता है कि यदि हमें धर्मान्तरण करने से रोका जाता है अथवा बाधा उत्पन्न की जाती है तो ऐसे संविधान को जला देना चाहिए। साथ ही उक्त बाईट में यह भी धमकी दी गई कि उनकी मांगे पुरी नही होगी तो प्रत्येक दिवस एक क्रिश्चन व्यक्ति आत्मदाह करेगा। उक्त बयान निंदनिय है एवं धार्मिक भावनाओं को आहत करने वाली है। उक्त बाते भाजपा जिला मंत्री सुनीता वर्मा ने कही। इन्होंने धार्मिक भावनाओं को आहत करने संबन्धी बयान देने वालो के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने की मांग छ.ग. की कांग्रेस सरकार से की है। 

श्रीमती वर्मा ने कहा कि ऐसे सौहाद्रपूर्ण प्रदेश का वातावरण खराब करना एवं धार्मिक भावनाओं को आहत करते हुए संविधान को जला दो कहने वाली टिप्पणी स्पष्ट रूप से दिखाती है की उक्त व्यक्ति संविधान के प्रति सच्ची श्रद्धा व निष्ठा नही रखते है। जो स्पष्ट रूप से राजद्रोह का कृत्य है। इन पर अविलंब राज्य सरकार को कार्यवाही करनी चाहिए जो नही की जाती यह प्रदर्षित करता है कि उनको सरंक्षण प्राप्त है। इन्होेने यह भी कहा कि प्रदेश में धर्मान्तरण राज्य सरकार के सरंक्षण में जारी है। पूरे प्रदेश में हर ओर बेखौफ होकर धर्मान्तरण का खेल चल रहा है। इन्होंने कांग्रेस की प्रदेश सरकार पर धर्मांतरण करने वालों को प्रश्रय देने का भी आरोप लगाया है। वहीं कांग्रेस की सरकार के कार्यकाल में कानून व्यवस्था पूरी तरह से चरमरा गई है। लोग न्याय के लिये भी भटक रहे है। प्रदेश मेें लगातार धर्मांतरण के किस्से बलौदाबाजार जिले में भी सामने आ रहे है। हिन्दू धर्म के मानने वालों को बरगलाने का प्रयास किया जा रहा है तथा हिन्दू धर्म से अलग कर अपने धर्म मंे मिलाने का प्रयास भी किया जा रहा है। भाजपा नेत्री सुनीता वर्मा ने ऐसे लोगोें के विरूद्ध प्रदेश सरकार को तत्काल संज्ञान लेकर कार्रवाई करने की मांग भी की है।