breaking news New

US President Election : जो बाइडेन ने रचा इतिहास, हो सकते हैं अगले राष्ट्रपति, ट्रम्प सुप्रीम कोर्ट पहुंचे

US President Election : जो बाइडेन ने रचा इतिहास, हो सकते हैं अगले राष्ट्रपति, ट्रम्प सुप्रीम कोर्ट पहुंचे

वाशिंगटन. अब लगभग तय हो गया है कि जो बाइडेन, अमेरिका के राष्ट्रपति बनने जा रहे हैं। चुनाव जीतने के लिए 270 या फिर उससे ज्यादा इलेक्ट्रोरल वोट हासिल करने होते हैं. अभी तक बाइडेन को 227 जबकि ट्रंप को 213 इलेक्ट्रोरल वोट मिले हैं और अभी लाखों वोटों की गिनती बची हुई है। ट्रम्प हार मानने को तैयार नही हैं और वे सुप्रीम कोर्ट गए हैं। 

बाइडेन ने ओबामा को पीछे छोड़ दिया है। उन्हें अमेरिकी इतिहास में पहली बार मिले इतने वोट मिले हैं। ओबामा शासनकाल में उप राष्ट्रपति रह चुके जो बाइडेन ने अब तक रिकॉर्ड 69,589,840 वोट (50.2 प्रतिशत) हासिल किए हैं. अभी लाखों वोटों की गिनती बाकी है.

पॉपुलर वोट्स में भले ही बाइडेन ने रिकॉर्ड बना लिया हो, लेकिन अभी उनकी जीत तय नहीं मानी जा सकती है. अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव 2016 में डेमोक्रेटिक पार्टी की उम्मीदवार हिलेरी क्लिंटन को करीब 29 लाख ज्यादा लोगों ने वोट किया लेकिन वह चुनाव हार गईं. इसकी वजह यह है कि डोनाल्ड ट्रंप के पक्ष में इलेक्टोरल वोट ज्यादा पड़ा है.

ऐसा 2000 में जॉर्ज डब्ल्यू बुश के साथ हुआ था. वह भी डेमोक्रेटिक उम्मीदवार अलगोर के मुकाबले पॉपुलर वोट में पिछड़ गए थे लेकिन इलेक्टोरल वोट उन्हें 266 के मुकाबले 271 मिले थे. 19वीं शताब्दी में जॉन क्विंसी एडम्स, रदरफोर्ड बी हायेस और बेंजामिन हैरिसन भी पॉपुलर वोट में पिछड़ने के बाद इलेक्टोरल वोट के जरिए जीते थे.

अरिजोना जीत सकते हैं बाइडेन

ट्रंप ने ओहियो, फ्लोरिडा और टेक्सास जैसे बड़े राज्यों को जीत लिया है. वहीं पेंसिल्वेनिया, विस्कॉन्सिन और मिशिगन में डेमोक्रेटिक पार्टी की उम्मीदें बढ़ रही हैं. बाइडेन की अरिजोना जीतने की संभावना है. 1996 के बाद से इस राज्य के लोगों ने कभी भी डेमोक्रेटिक राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार के लिए मतदान नहीं किया है.