breaking news New

एक सूत्रीय मांग को लेकर सचिव संघ अनिश्चितकालीन हड़ताल पर बैठे

एक सूत्रीय मांग को लेकर सचिव संघ अनिश्चितकालीन हड़ताल पर बैठे

ग्राम पंचायतों में विकास कार्य होंगे ठप्प 

नारायणपुर, 26 दिसंबर। नक्सल प्रभावित नारायणपुर जिले के 104 ग्राम पंचायतों के विकास कार्यों व शासकीय योजनाओं के संचालन आज से ठप्प पड़ने जा रहा है जिसका कारण पंचायत सचिवों के अनिश्चितकालीन हड़ताल पर जाना है । ग्राम पंचायत सचिव संघ अपनी एक सूत्रीय मांग को लेकर आज से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले गए है। 

सचिवों का कहना है कि दो साल की परीक्षा अवधि के समाप्ति के बाद शासकीय कर्मचारी घोषित करने की हमारी काफी पुरानी मांग है जिस पर सरकार ध्यान नही दे रही है जबकि हम नक्सल प्रभावित इलाकों में जान जोखिम में डालकर शासन की योजनाओं को ग्रामीणों तक पहुंचाते है वही महिला सचिव बहन अपने दुधमुंहे बच्चो को छोड़कर शासन के कार्य संपादित करते बाउजूद इसके शासन हमारी जायज  मांग पर विचार ही नहीं कर रही है।

मन्नू बघेल , जिलाध्यक्ष सचिव संघ नारायणपुर ने बताया कि जिले के 104 ग्राम पंचायतों के पंचायत सचिव प्रदेश सचिव संघ के आह्वान पर अपनी एक सूत्रीय मांग को लेकर आज से जनपद पंचायत नारायणपुर के प्रांगण पर अनिश्चितकालीन हड़ताल पर बैठे हुए है । पंचायत सचिवों की एक सूत्रीय मांग है कि दो साल की परीक्षा अवधि समाप्ति के बाद सचिवो को शासकीय कर्मचारी घोषित किया जाए । हमारी जायज एक सूत्रीय मांग पर शासन ध्यान नहीं दे रही है जबकि शासन की महत्वपूर्ण योजनाओ को नक्सल प्रभावित इलाकों में हम जान जोखिम में डालकर लोगो तक पहुंचाते है। 

शासन के 29 विभागों के कार्य हमसे ही संपादित किये जाते है। हमारी महिला सचिव बहन अपने दुधमुंहे बच्चो को छोड़कर पंचायतों में कार्य संपादित करती है बाउजूद सरकार हमारी मांगो पर कोई ध्यान नही दे रही है। हमारे हड़ताल पर जाने से छत्तीसगढ़ सरकार की महत्वपूर्ण योजनाओं नरवा गुरवा बाड़ी , गोधन न्याय योजना जैसी का संचालन हम करते है जो कि हड़ताल पर जाने से प्रभावित होंगे साथ ही ग्रामीणों को होने वाली परेशानियों की जवाबदेही भी राज्य सरकार की है । 

इस दौरान कार्तिक नंदी , सोहन उइके , संजय यादव , सकेश्वर रावटे , सोमसिंह नाग , पासो नाग , विभूति राय , अभय तिवारी , ममता ध्रुव , मंगल सलाम , माधव यादव , जयराम नाग , गणेश देवांगन , राजाराम यादव , प्रदुमन निषाद , सुकमती उसेंडी , लष्मी प्रसाद , परमानन्द निषाद , सुद्ध सलाम , दशमती कुमेटी , सुरेश साहू ,  पवन कुलदीप , संतु शोरी , रिजवान फारुखी ,मानकु पोडियाम , विमल द्विवेदी , हरक चौधरी आदि सचिव मौजूद थे ।