breaking news New

ताशकंत में विश्वस्तरीय सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल खुलेगा

ताशकंत में विश्वस्तरीय सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल खुलेगा

 21 वीं सदी में भारत और उज़्बेकिस्तान द्विपक्षीय सहयोग में तेजी आयेगी : रूपला

ताशकंत में अंतरराष्ट्रीय फिल्म फेस्टिवल का आयोजन होगा : दिलशोद आशातोव

 रणधीर कपूर ने किया गिटार एल्बम सिंगिंग स्ट्रिंग्स ऑफ विभोर सैनी का लोकार्पण

नई दिल्ली ।  केंद्रीय मंत्री पुरुषोत्तम रूपला ने कहा की 21 वीं सदी में भारत और उज़्बेकिस्तान मिलकर विकास के पथ पर अग्रसर होंगे। जल्द ही तशाकांत में विश्वस्तरीय सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल खोला जायेगा। यह हमारे मैत्री सहयोग के बढ़ते कदम है। सरस्वती म्यूजिक कॉलेज द्वारा सोमवार को ग्रीन पार्क दिल्ली में आयोजित प्रेस कॉफ्रेंस में उक्त घोषणा की। सरस्वती म्यूजिक कॉलेज द्वारा तशकांत और होशंगाबाद में सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल खोला जायेगा।

इस मौके पर उज़्बेकिस्तान के भारत में राजदूत दिलसोद अशातोव, फिल्म अभिनेता रणधीर कपूर, फिल्म निदेशक राहुल रवैल, सरस्वती म्यूजिक कॉलेज सोसायटी के अध्यक्ष बी आर सैनी, तशाकांत के उद्योगपति डा. एलिशर जब्बरोव, विभोर सैनी सहित अन्य लोग उपस्थित थे।

मंत्री श्री रूपला ने कहा की भारत और उज़्बेकिस्तान में सदियों पुरानी मित्रता है।भौगोलिक ही नहीं संस्कृति और सभ्यताओं के बीच घनिष्ठता है। केंद्रीय मंत्री श्री रूपला ने श्री बीआर सैनी को बधाई दी की उन्होंने निरंतर प्रयास कर ताशकंत में विश्वस्तरीय हॉस्पिटल खोल रहें है। इससे भारत और उज़्बेकिस्तान के द्विपक्षीय सहयोग में और वृद्धि होगी।

इस मौके पर उज़्बेकिस्तान के भारत में राजदूत श्री जब्बारोव ने कहा की ताशकंत में अंतरराष्ट्रीय  फिल्म फेस्टिवल का आयोजन होने जा रहा है। इसमें भारतीय फिल्म उद्योग की फिल्मों का विशेष रूप से प्रदर्शन होगा। भारतीय संस्कृति और फिल्मों को उज़्बेकिस्तान के लोग बहुत पसंद करते है फिल्म और गाने विशेष रूप से राजकपूर, मिथुन चक्रवर्ती बहुत लोकप्रिय है।

इस मौके पर चर्चित अभिनेता रणधीर कपूर ने गिटार एल्बम सिंगिंग स्ट्रिंग्स ऑफ विभोर सैनी का लोकार्पण किया।इसे टी सीरीज कंपनी की है जिसमे विभोर सैनी ने अपने गिटार से मनमोह लिया है। इस मौके पर विपुल सैनी की उर्दू कविता की पुस्तक उड़ता फिरे है  का लोकार्पण किया गया।

इस मौके पर अध्यक्ष बीआर सैनी ने कहा की ताशकंत में सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल खोलकर मध्य एशिया में चिकित्सीय सुविधा अधिक से अधिक लोगों तक पहुंचाने का लक्ष्य है। इसके बाद सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन किया गया।