breaking news New

शासकीय कमला देवी महिला स्नातक महाविद्यालय का ऑन लाइन संस्कृत संभाषण शिविर संपन्न

शासकीय कमला देवी महिला स्नातक महाविद्यालय का ऑन लाइन संस्कृत संभाषण शिविर संपन्न

राजनांदगांव, 23 मई। शासकीय कम ला देवी राठी महिला स्नातक महाविद्यालय, राजनांदगाव में 17 मई से 21 मई तक ऑन लाइन संस्कृत सम्भाषण शिविर का आयोजन किया गया। कार्यक्रम की संयोजिका संस्कृत विभाग की विभागाध्यक्ष डॉ. सुषमा तिवारी ने बताया की संस्कृत संभाषण शिविर का आयोजन वर्तमान समय में कोविड-19 की परिस्तिथि को ध्यान में रखते हुए गूगलमीट प्लेटफार्म पर ऑनलाइन मोड पर किया गया है।

कार्यक्रम का शुभारंभ करते हुए महाविद्यालय की प्राचार्य डॉ. सुमन सिंह बघेल ने कहा ऐषा भाषा संस्कृत भाषा अतीव श्रेष्ठा दिव्याच। संस्कृत का महत्व बताते हुए प्राचार्य ने कार्यक्रम को छात्राओं के हित में आवश्यक बताया और कहा संस्कृत संभाषण से छात्राओं में वाक्य निर्माण, बोलने की शैली और शब्द ज्ञान में वृद्धि होगी।

इस महत्वपूर्ण कार्यक्रम को संचालित करने में डॉ. अमित मिश्र (केंद्र शासकीय विश्वनाथ तामस्कर यादव स्वशासी स्नातकोत्तर महाविद्यालय दुर्ग) संस्कृत प्रशिक्षक के रूप में रहे। केंद्रीय संस्कृत विश्व विद्यालय, नयी दिल्ली द्वारा संस्कृत भाषा के प्रचार-प्रसार के लिए उक्त केंद्र बनाया गया हैं। इसका उद्देश्य हैं की सभी लोग संस्कृत सीखे और संस्कृत में संभाषण करे। डॉ. अमित मिश्र ने कहा कि कोरोना काल में संस्कृत भाषा का प्रचार-प्रसार कैसे करेंगे? परंतु समय ने सीखा दिया और हमने कम्प्यूटर, लैपटॉप, मोबाइल से भी हमने संस्कृत सीखा, व प्रशिक्षण कार्यक्रम को प्रारंभ रखा। इस पंचदिवसीय कार्यक्रम में छात्राओं को संस्कृत में संभाषण के लिए संस्कृत में अपना परिचय देना, शब्दों का ज्ञान, संख्या का ज्ञान, क्रियाओं का ज्ञान वर्त्तमानकाल, भूतकाल आदि में प्रयुक्त क्रिया निर्माण कराया गया। छात्रायें संभाषण के द्वारा उक्त ज्ञान से परिचित और लम्भान्वित हुई। प्राचार्य ने कहा कि यह शिविर पांच दिवसों के बाद समापन नहीं हो रहा हैं, वरन आगे भी यह कार्यक्रम चलता रहेगा। संस्कृत सम्भाषण हेतु आगे भी शिविर को संचालित करना है।

संचालिका डॉ. सुषमा तिवारी ने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों में निवासरत छात्रायें ने काफी रूचि लेकर संभाषण किया। यद्यपि नेटवर्क समस्या रही, परंतु छात्राओं ने एक लिंक से अनेक छात्राओं को जोड़कर सहभागिता की। कार्यक्रम के समापन अवसर पर छात्रा सोनम साहू ने सरस्वती वंदना की। छात्रा गायत्री साहू और बरखा साहू ने श्लोक पाठ किया। पूरे कार्यक्रम में प्रतिदिन औसत 50 से ऊपर छात्राओं ने सहभागिता की। इस तरह से यह कार्यक्रम सफल रहा।