भारत की तीनों सेनाओं की संयुक्त टुकड़ी रूस के विजय दिवस परेड में शामिल हुई

भारत की तीनों सेनाओं की संयुक्त टुकड़ी रूस के विजय दिवस परेड में शामिल हुई


नयी दिल्ली,माॅस्को, 25 जून । तीनों सेनाओं की संयुक्त टुकड़ी रूस के 75वें विजय दिवस समारोह के दौरान परेड में शामिल हुई।माॅस्को के रेड स्क्वायर पर हुये इस समारोह में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह विशेष अतिथि के रूप में आमंत्रित थे। भारत की तीनों सेनाओं की संयुक्त टुकड़ी ने रूस तथा 17 अन्य देशों की सेनाओं के साथ परेड में हिस्सा लिया। भारतीय दल में विभिन्न रैंकों के 75 सैनिक शामिल थे।द्वितीय विश्व युद्ध में 24 जून 1945 को तत्कालीन सोवियत संघ की सेना को विजय मिली थी।

उसी दिन नाजी जर्मनी की सेना ने मित्र राष्ट्रों के साथ आत्मसमर्पण के समझौते पर भी हस्ताक्षर किया था। उस समय ब्रितानी शासन में भारतीय सेना भी मित्र राष्ट्रों के पक्ष में लड़ी थी। द्वितीय विश्व युद्ध में 87 हजार भारतीय सैनिक शहीद हुये थे जबकि 34,354 घायल हुये थे। भारतीय सेना की वीरता के लिए उन्हें चार हजार से अधिक पदक प्रदान किये गये जिनमें 18 विक्टोरिया और जॉर्ज क्रॉस शामिल थे।सोवियत संघ ने भी भारतीय सैनिकों की वीरता की भूरी-भूरी प्रशंसा की थी। उसने सूबेदार नारायण राव निक्कम और हवलदार गजेंद्र सिंह चाँद को रेड स्टार से नवाजा था।