breaking news New

मोदी सरकार द्वारा पारित तीन काले कृषि कानून के खिलाफ, किसान आंदोलन के समर्थन में किया गया चक्काजाम

 मोदी सरकार द्वारा पारित तीन काले कृषि कानून के खिलाफ, किसान आंदोलन के समर्थन में किया गया चक्काजाम

 सक्ती।  जांजगीर चापा  केंद्र सरकार में आसीन भारतीय जनता पार्टी और एनडीए नित नरेन्द्र मोदी की सरकार द्वारा आनन फानन में तीन कृषि संशोधन कानून पारित किए गए थे। जिसके विरोध में देशभर के किसान संगठनों के द्वारा दिल्ली में सरकार के खिलाफ आंदोलन किया जा रहा है।

 लगभग 75 दिन से आंदोलन कर रहे किसानों से सरकार द्वारा कई दौर की बातचीत भी हुई, किन्तु सरकार द्वारा कानून वापस लेने में टालमटोल की जा रही है। जहां एक ओर किसान संगठन इस संशोधित कानून को किसान विरोधी कानून बता रहे हैं वहीं दूसरी ओर से सरकार इस कानून को किसान हित में बता रही है। यह आंदोलन दो माह से भी अधिक समय तक शांतिपूर्ण ढंग से चल रही थी। 

तभी 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस के दिन कुछ षड्यंत्रकारियों द्वारा किसानों के ट्रेक्टर रैली में शामिल होकर असामाजिक ढंग से पुलिस कर्मियों को रौंदते हुए दिखे। पुलिस द्वारा जिसकी आज भी जांच चल रही है। किसान संगठनों द्वारा दावा किया गया कि असामाजिक कृत्य करने वाला व्यक्ति एक राजनीतिक दल का कार्यकर्ता था, जिसने षडयंत्र पूर्वक शांतिपूर्ण आंदोलन में अशांति पैदा की। 

किसान नेता राकेश टिकैत और अन्य किसान संगठनों के नेताओं द्वारा किसान आंदोलन के समर्थन में 6 फरवरी को देशव्यापी चक्काजाम करने और उन्हें समर्थन देने का आह्वान किया गया था। जिस पर अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी ने अपना समर्थन देते हुए देश के सभी जिला, ब्लॉक एवं नगर मुख्यालयों में एक दिवसीय चक्काजाम में कांग्रेस नेताओं और पदाधिकारियों कार्यकर्ताओं को शामिल होने का आह्वान किया गया था। इसी कड़ी में आज जिला मुख्यालय जांजगीर के नेताजी सुभाष चौक में कृषक संगठनों के समर्थन में स्थानीय किसान नेता बासवराज, दुष्यंत सिंह, ब्यास कश्यप, शिवकुमार तिवारी एवं नगर कांग्रेस कमेटी जांजगीर नैला के संयोजकत्व में एक दिवसीय चक्काजाम आयोजित किया गया। 

दोपहर 12 बजे से 3 बजे तक यह चक्काजाम संचालित किया गया। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए प्रदेश कांग्रेस की पूर्व महामंत्री सुश्री शशिकांता राठौर ने कहा कि केंद्र द्वारा पारित तीन काले कृषि कानून तत्काल वापस लिया जाए और स्वामीनाथन कमेटी की सिफारिश को लागू करते हुए किसान को कृषि कार्य के लागत का डेढ़ गुना समर्थन मूल्य दिया जाए। जिला कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष दिनेश शर्मा ने कहा कि जो सरकार अन्नदाता किसानों का भला नहीं कर सकती है उसे भारत देश की गद्दी पर रहने का बिल्कुल भी अधिकार नहीं है।

 कार्यक्रम को नपाध्यक्ष भगवान दास गढ़ेवाल, रमेश पैगवार, प्रवीण पाण्डेय, देवेश सिंह, विवेक सिसोदिया, आभाष बोस, रफीक सिद्दीक़ी, किसान नेता ब्यास कश्यप, दुष्यंत सिंह, शिवकुमार तिवारी, उत्तम पाटले, गिरधारी यादव, महारथी बघेल, ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष द्वय शत्रुहन दास महंत, चिंताराम राठौर, देवकुमार पाण्डेय, किशोर साव, आकाश तिवारी ने भी संबोधित किया।

कार्यक्रम का संचालन जिला महामंत्री हृषीकेश उपाध्याय एवं आभार प्रदर्शन नगर कांग्रेस अध्यक्ष संतोष शर्मा ने किया। चक्काजाम में विशेष रूप से जिला पंचायत सदस्य राजकुमार साहू,  नीता थवाइत, प्रवक्ता शिशिर द्विवेदी, एल्डरमैन हेमलता राठौर, मनोज कालू अग्रवाल, पार्षद रामबिलास राठौर, भगवंतीन यादव, सीमा शर्मा, रामकुमार यादव, पंचराम यादव, बजरंग शर्मा, शरद तिवारी, अजीत सिंह राणा, परमेश्वर राठौर, सुखराम गढ़ेवाल, अशोक सोनवानी, अशोक रात्रे, पवन कश्यप, जगदीश कश्यप, महेश राठौर, लच्छी लदेर, संजय केदार अग्रवाल, दीपक अग्रवाल, रवि शर्मा, हरदेव टंडन, मोहनलाल यादव, बसंत अग्रवाल, भरत लाल यादव, गोकुल प्रसाद कश्यप, राजू शर्मा, अतीक कुरैशी, अमन अग्रवाल, योगेश यादव, गार्गी तिवारी, मनीषा डहरिया, प्रियांशु धर दीवान, प्रकाश बरेठ, गोविंदा परमहंस, अमरीका सारथी, इतवारा बाई, दिलीप कश्यप, जितेंद्र दिनकर, मोनू खान, प्रवीण पैगवार सहित सैकड़ों की संख्या में कांग्रेस जन उपस्थित रहे।