breaking news New

विश्व मातृ दिवस पर सांसद ज्योत्सना महंत ने कहा- महामारी से बचाव में माताओं की अहम भूमिका

विश्व मातृ दिवस पर सांसद  ज्योत्सना महंत ने कहा- महामारी से बचाव में  माताओं की अहम भूमिका

कोरबा, 10 मई। विश्व मातृ दिवस के अवसर पर शिक्षा विभाग कोरबा द्वारा आयोजित आनलाईन वर्चुअल बैठक के माध्यम से कोरोना बचाव नियंत्रण जागरूकता कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कोरबा संसदीय क्षेत्र के लोकप्रिय सांसद  ज्योत्सना महंत ने कहा -महामारी से बचाव में माताओं की भी अहम भूमिका होती है, क्योंकि किसी भी बीमारी से बचाने में घर का अनुशासन, उसका खानपान और बच्चों को खाली समय में उनको तरह-तरह से मनोरंजक घरेलू खेल, ड्राइंग ,पेंटिंग कहानी गीत  इत्यादि सुनाते हुए  घर पर ही संभाल करके रखना और घर के अन्य सदस्यों को भी उचित खानपान, साफ सफाई के द्वारा सुरक्षित करना भी महामारी से बचाव का बहुत बड़ा जरिया होता है । इसे माताएं भलीभांति निभाती है । सांसद  महंत ने कोरोना  नियंत्रण जागरूकता कार्यक्रम के तहत जिले भर में विगत कई दिनों से  चल रहे जागरूकता संदेश की सराहना की । 

इसमें जुड़े विद्यार्थियों , पालकों , शिक्षकों के कुछ प्रश्नों के उत्तर भी दिए  । वन्यांचल करतला की छात्रा महिमा राठिया ने जब प्रश्न किया कि '' गांव  हम अपन माता-पिता के साथ महुआ बिने बर जावथन तव कोई खतरा तो नैइहे मैडम ? सांसद महोदया ने उत्तर देते हुए कहा कि आप केवल अपने ही परिवार के साथ जाइए, किसी दूसरे के साथ काम करने आप बाहर ना जाए और डबल मास्क लगाएं ,दूरी बनाएं व हाथ बार बार धोएं । कोई दिक्कत नहीं होगी । चेहरे पर फेस कवर करें हाथ धो ले और दूरी बनाए रखें तब आपको इस महामारी का संक्रमण नहीं होगा अब तक लाखों बालक, पालक और क्षेत्र के लोगों तक सही संदेश पहुंचा कर इस महामारी से नियंत्रण में जिला शिक्षा अधिकारी शतीश पांडेय  के कुशल मार्गदर्शन में चल रहे प्राचार्य शिक्षक साथियों की सेवाओं को सफल व उपयोगी बताया। कु नंदिनी  कोरबा की जिज्ञासा थी कि गर्भवती महिलाओं को टिका लगवाना चाहिए या नही।वही शिवशक्ति मिरी बालक बालको ने प्रश्न किया कि कोविद से मरने वालो का पोस्ट मार्टम क्यो नही किया जाता। कोरबी धतूरा के छात्र का प्रश्न था टीकाकरण कितने समय तक कारगर रहेगा।

डॉ मधु पालिया ने भी स्वास्थ्यगत समस्या व  टीकाकरण  से संबंधित किए गए बच्चों के प्रश्न के उत्तर दिए  । पटल  को जिला पंचायत अध्यक्ष  शशिकला कंवर ने भी संबोधित करते हुए बचाव को संदेश दिए । 

इस अवसर पर कार्यक्रम में  निशिता झा जो पत्रकार, डाइटशियन ,कोरोना वर्किंग एक्सपर्ट है, उन्होंने काढ़ा बनाने की नई प्रविधि के बारे में सटीक जानकारी प्रदान की।इस अवसर पर व्याख्याता  ममता सिंह राजपूत ,सीमा चतुर्वेदी, विभा शुक्ला ,सुनीता,राकेश टंडन तथा प्राचार्यो में एल के साहू,  प्राचार्य  पुरुषोत्तम पटेल ,एम आर श्रीवास ने भी अपनी बात रखी। गणमान्य में  गोदावरी राठौर जिला पंचायत सदस्य,  उषा जायसवाल पार्षद नगरपंचायत छुरिकला,मधु पांडेय वकील,  रूपा मिश्र,  उषा तिवारी, सपना चौहान, कृतिका तिवारी ,,शाला प्रबंधन समिति के अध्यक्ष  ममता कश्यप ,  ने भी विभिन्न सावधानी बरतते हुए ,प्रोटोकाल  नियम का पालन करने   कहा व कुछ उपाय बताते हुए सभी  बच्चों के माध्यम से यह अपील भी की कि  *कोरोना हो ना, हो तो डरो ना, सामना इसका करोना और तंदरुस्त बने रहोना । दवाई नहीं है अतः टीकाकरण पर अधिक जोर दिया गया ।

कार्यक्रम की शुरुवात , कार्यक्रम संयोजक  कामता जायसवाल ब्याख्याता द्वारा  सांसद के स्वागत उद्बोधन से हुआ। प्राचार्य  फरहाना अली ने   कोरोना के रोकथाम  हेतु किये गये  जनजागरूकता अभियान के प्रारंभिक प्रतिवेदन दिए तथा  जिला शिक्षा अधिकारी  सतीश पांडेय ने इस अभियान के व्यापक प्रसार व सफलता की जानकारी दी । संचालन  निशा चंद्रा ,  मंजुला श्रीवास्तव व्याख्याता ने किया और अंत में  विश्वनाथ कश्यप प्राचार्य द्वारा  अतिथियों,विषय विशेषज्ञों द्वारा सभी का उत्साहवर्धन करने व मनोबल बढ़ाने के लिए आभार व्यक्त किया गया ।