breaking news New

ग्राम गौठानों में चारागाह व पौधारोपण कार्य पूर्ण करने के लिए 31 जुलाई तक समय सीमा तय

ग्राम गौठानों में चारागाह व पौधारोपण कार्य पूर्ण करने के लिए 31 जुलाई तक समय सीमा तय


जिला पंचायत सीइओ ने उन्नत किस्म के फलदार पौधे व नेपियर स्ल्पि्स लेकर लगाने के दिए निर्देष
बैकुण्ठपुर .  जिले भर में स्वीकृत और प्रगतिरत ग्राम गौठानों में फलदार पौधों की नर्सरी और अंतर्वर्तीय फसल के रूप में पषुओं के हरे चारे की व्यवस्था के लिए सभी गौठानों में फलोद्यान सह चारागाह बनाया जाना है। इन चारागाहों में उन्नत किस्म के फलदार पौधां के साथ अंतर्वर्तीय फसल के स्थान पर नेपियर घास के साथ बहुवर्षीय ज्वार आदि पोषक चारा उगाया जाएगा। सभी ग्राम पंचायतों में आगामी 31 जुलाई तक यह फलदार पौधारोपण सह चारागाह लगाए जाने का कार्य पूर्ण कर लिया जाए। जिला पंचायत के मुख्यकार्यपालन अधिकारी श्री कुणाल दुदावत ने जनपद पंचायत के मुख्यकार्यपालन अधिकारियों की बैठक में उक्ताषय के निर्देष दिए। कोरिया जिले के सभी क्रियाषील ग्राम गौठानों से लगी भूमि पर फलोद्यान सह चारागाह तैयारी की प्रगति की समीक्षा करते हुए उन्होने कहा कि एक दर्जन से ज्यादा गौठानों में फलोद्यान सह चारागाह पूर्व से ही तैयार हो चुके हैं जिनमे पर्याप्त मात्रा में नेपियर घास की बढ़त हो चुकी है। सभी ग्राम पंचायतों में उन्ही गोठानों से बीज के रूप में नेपियर की गांठे खरीद कर अन्य ग्राम पंचायतों में उसकी बुआई की जाए। जिला पंचायत सीइओ ने कहा कि कलेक्टर कोरिया श्री ष्याम धावड़े के निर्देषानुसार आगामी 31 जुलाई तक इस कार्य के लिए समय-सीमा तय कर दी गई है। इसलिए इसे सर्वोच्च प्राथमिकता में लेते हुए गौठानों से लगी भूमि पर फलोद्यान सह चारागाह की तैयारी का कार्य पूरा कर लिया जाए। विदित हो कि कोरिया जिले में प्रथम चरण के तहत बने गोठानों में आदर्ष के रूप में फलोद्यान के साथ चारागाह कोरिया कृषि विज्ञान केंद्र के वैज्ञानिकों के देखरेख में तैयार किए गए हैं। इन गौठानों में उन्नत किस्म के फलदार पौधों के साथ नेपियर घास और बहुवर्षीय ज्वार जैसी पोषक घास को लगाया गया है। इन चारागाहां से ग्राम गौठान समिति ने राज्य के कई जिलों को नेपियर घास का बीज बेचकर अच्छा मुनाफा कमाया है।
          गत दिवस जिला पंचायत के मंथन कक्ष में सभी जनपद पंचायत के मुख्यकार्यपालन अधिकारियों की समीक्षा बैठक को संबोधित करते हुए जिला पंचायत सीइओ ने कहा कि कोरिया जिले के चारागाह के आदर्ष प्रकल्प को प्रदेष के अन्य जिलों में भी लागू किया जाना काफी उत्साहजनक है। इसलिए कोरिया जिले के सभी ग्राम गोठानों में अतिरिक्त भूमि का चिंहाकन कर चारागाह के कुल 219 कार्य स्वीकृत किए गए हैं। जिनमें से 189 चारागाह विकास कार्य की जिम्मेदारी ग्राम पंचायतों को प्रदान की गई है। समीक्षा बैठक में जिला पंचायत सीइओ ने कहा कि सभी जनपद पंचायत के मुख्यकार्यपालन अधिकारी ग्राम पंचायतों की बैठक लेकर इस कार्य को आगामी 31 जुलाई तक पूरा कराएं। विदित हो कि कोरिया जिले में प्रथम चरण के तहत 20 मानक गौठानां में चारागाह का निर्माण पूरा कराया गया है। यह कार्य कृषि विज्ञान केंद्र कोरिया के देखरेख में कराया गया है। इसके बाद द्वितीय चरण में स्वीकृत ग्राम गौठानों में 10 चारागाहों की प्रषासकीय स्वीकृति प्रदान की गई है। तीसरे चरण में गोठानों की स्वीकृति के साथ ग्राम पचायतों में उपलब्ध भूमि के आधार पर कुल 189 चारागाहां की प्रषासकीय स्वीकृति प्रदान कर निर्माण कार्य के लिए ग्राम पंचायतों को निर्माण एजेंसी बनाया गया है। जनपद पंचायतों के मुख्यकार्यपालन अधिकारियों ने बताया की स्वीकृत किए गए कुल चारागाह में से कुल 112 चारागाहों का विकास कार्य पूरा करा लिया गया है षेष चारागाह विकास कार्य प्रगतिरत हैं। जिला पंचायत सीइओ ने कहा कि चारागाह के साथ सभी जगहों पर फलदार पौधों का रोपण भी स्वीकृत किया गया है ताकि आने वाले तीन चार वर्षां के बाद ग्राम गौठान प्रबंधन समिति के पास आय का एक अच्छा स्रोत भी तैयार हो सके। सभी गौठानों में बुआई के लिए सही समय का उल्लेख करते हुए उन्होने सभी चारागाह निर्माण कार्य इस माह के अंत तक पूरा करने के निर्देष दिए हैं। जिला पंचायत सीइओ ने समीक्षा बैठक में गोठान निर्माण की प्रगति के साथ वर्मी टांको के निर्माण, बने हुए टांकों में गोबर भरे जाने व पूर्व से भरे टांकों से वर्मी खाद की छनाई, पैकेजिंग आदि के बारे में विस्तार से समीक्षा करते हुए अन्य निर्माण कार्यों के संबंध में आवष्यक दिषा-निर्देष दिए। समीक्षा बैठक में जनपद पंचायत बैकुण्ठपुर के मुख्यकार्यपालन अधिकारी श्री अमित सिन्हा, खड़गंवा के जनपद पंचायत अधिकारी श्री मूलचंद चोपड़ा, भरतपुर के मुख्यकार्यपालन अधिकारी श्री टी डी मरकाम, मनेन्द्रगढ़ के मुख्यकार्यपालन अधिकारी श्री संजय राय और सोनहत जनपद के मुख्यकार्यपालन अधिकारी श्री आर एस सेंगर सहित जिला पंचायत के अधिकारी उपस्थित रहे।