breaking news New

सचिवों पर दबाव डालकर सीईओ को बचाने का प्रयास

सचिवों पर दबाव डालकर सीईओ को बचाने का प्रयास

 सरपंच सचिव के संयुक्त बैठक कल 

भानुप्रतापपुर, 17 दिसंबर।  जनपद पंचायत दुर्गुकोंदल के सीईओ  व ब्लाक सचिव संघ के बीच की लड़ाई के एल फाफा साहब के लिए गले की फांस बन गई है। मामले को दबाने के लिए सीईओ के द्वारा तमाम प्रयास किये जा रहे है। कुछ जनप्रतिनिधियों को लेकर कार्यालय में लगातार बैठक भी किये जा रहे है। वही कल 17 दिसम्बर गुरुवार को एक बार फिर सरपंच व सचिवों के संयुक्त बैठक  रखी गई है,जहा सचिवों को दबावपूर्वक समझौते कराए जाने की बात सामने आ रही है।

गौरतलब हो कि सचिव एवं कार्यालय के कर्मचारियों के द्वारा सीईओ के एल फाफा पर हर कार्य के एवज में पैसे की मांग व अभद्र व्यवहार का आरोप लगाते हुए जिला कलेक्टर व जिला सीईओ से शिकायत की गई थी।  जिला कलेक्टर द्वारा मामले को संज्ञान में लेते हुए उप संचालक को जांच के लिए जनपद पंचायत दुर्गुकोंदल भेजा गया था। हालकि उप संचालक द्वारा सभी सचिवो से लिखित में बयान लेते हुए वापस हो गये। जिसके बाद सीईओ साहब दुर्गुकोंदल के द्वारा मामले को शांत कराने तमाम प्रयास किये जा रहे है।

ज्ञात सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार कुछ जनप्रतिनिधियों के द्वारा सीईओ साहब के पक्ष रखने के  लिए जिला कार्यालय जाकर अधिकारी से मिलने एवं

जांच अधिकारी से भी मुलाकात 

किये जाने व लेन-देन के साथ ही सचिवो के द्वारा लिए गए लिखित बयान को बदलने व जनप्रतिनिधियों के बयान को साहब के पास पेश करने की बात सामने आ रही है। 

 जांच में देरी 

स्थिति साफ होने के बावजूद भी जिला पंचायत के कार्यवाही को देखने से ऐसा प्रतीत हो रहा है कि जिला प्रशासन भी अधिकारी को बचाने के प्रयास में लगी हुई है। क्योंकि छोटे कर्मचारियों के लिए अधिकारी से विवाद करना पानी मे मगरमच्छ से बैर करना है, इसलिए वे हर स्थिति परिस्थितियों को समझने के लिए मजबूर हो जाते है जिसका उदाहरण भी जनपद पंचायत दुर्गुकोंदल में देखा जा सकता है।

 स्पेशल आडिट जांच होनी चाहिए 

वर्तमान सीईओ के कार्यकाल के समय जनपद पंचायत दुर्गुकोंदल का स्पेशल आडिट जांच किये जाने चाहिए जिससे कई खुलासे सामने आ सकते है।

 क्षेत्र पर कम अधिकारी की  चिन्ता अधिक 

जनप्रतिनिधि भी क्षेत्र के विकास पर ज्यादा ध्यान न देते हुए अधिकारी को बचाने में लगे हुए जो समझ से परे है।