breaking news New

मुख्यमंत्री की वर्चुअल बैठक में दोरनापाल का नाम नही, लॉलीपाप देकर जनाधार बचाने का प्रयास

मुख्यमंत्री की वर्चुअल बैठक में दोरनापाल का नाम नही, लॉलीपाप देकर जनाधार बचाने का प्रयास

कृष्णा नायक दोरनापाल

दोरनापाल। वर्चुअल बैठक में 11 निकाय को विकास कार्यों की सौगात मिली हैं वही नगर पंचायत दोरनापाल को हाल ही में स्वच्छता के लिए सम्मान प्राप्त हुआ हैं। फिर भी विकास कार्यो में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की वर्चुअल बैठक में दोरनापाल का नाम नही होने से भाजपा दोरनापाल के नेता प्रतिपक्ष ने निराशा व्यक्त करते हुए फिर एक बार दोरनापाल से भेदभाव का आरोप लगाया हैं।

नेता प्रतिपक्ष धर्मेंद्र मोनू सिंह भदौरिया का कहना हैं कि जहां एक तरफ दोरनापाल के स्वछता दीदियों व स्वच्छता मित्रों की बदौलत दोरनापाल को छत्तीसगढ़ राज्य भर में स्वच्छता के लिए सम्मान मिला हैं। वही हॉल ही में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल  के वर्चुअल बैठक के माध्य्म से 11 निकायों को करोड़ों का विकास कार्यो की सौगात देने पर कहा हैं कि आगामी आने वाले चुनाव को देखते हुए ये सिर्फ चुनावी घोषणा हैं।

सुकमा जिले के कोंटा नगर पंचायत में चुनाव है, कोंटा में अपनी जनाधार खो चुकी कांग्रेस को चुनावी लॉलीपाप देकर जनाधार बचाने का प्रयास किया जा रहा हैं। पर वहीं दोरनापाल नगर पंचायत को स्वच्छता का सम्मान देने के बाद भी विकास कार्यों से दूर करना ये सरकार की चुनावी लॉलीपाप बाँटने की मंशा को साबित करता हैं। दोरनापाल में कई जगह आधी अधूरी नालियां व सड़के हैं।

जो कि निर्माण के लिए राशि नही होने से रुकी पड़ी हैं। भाजपा के पार्षद हमेशा विकास कार्यों को कराये जाने की मांग लगातार करते रहते हैं पर दोरनापाल के नगर की जनता को विकास से दूर किया जा रहा हैं। स्वछता में सम्मान दिलाने में स्वच्छता मित्रों के साथ ही नगर की जनता का भी हाथ हैं।

जिन्होंने स्वछता के लिए सिटीजन फीडबेक में दोरनापाल को अव्वल बना दिया फिर भी दोरनापाल की जनता के साथ सौतेला व्यवहार करना सरकार की मंशा पर सवाल खड़ा करता हैं। क्योंकि दोरनापाल की जनता भाजपा को जनाधार दिया हैं !

जिससे भाजपा के बहुमत से आठ पार्षद हैं परंतु सत्ता का रोब दिखाकर सत्ता पर कांग्रेस बैठ गई हैं और  दोरनापाल की जनता के साथ विश्वासघात कर रही हैं। जिसका खामियाजा आगामी चुनाव में कांग्रेस को उठाना पड़ेगा  दोरनापाल की जनता इनका सूपड़ा साफ जरूर करेंगी।