breaking news New

भाजपा के दबाव के बाद चिरमिरी की नई खदानों को खोलने एसईसीएल प्रबंधन में आई सक्रियता

भाजपा के दबाव के बाद चिरमिरी की नई खदानों को खोलने एसईसीएल प्रबंधन में आई सक्रियता

  त्रिलोचन चक्रवर्ती 

 चिरिमिरी -कोरिया। भरपूर कोल भंडार होने के बाद भी पिछले वर्षों में एसईसीएल चिरमिरी क्षेत्र की लचर कार्यप्रणाली से संकट काल से गुजर रहे एसईसीएल चिरमिरी क्षेत्र के विभिन्न इकाईयों में बंद व संचालित कोयला खदानों में विस्तार के साथ नए खनन अवसर को लेकर भाजपा चिरमिरी मंडल द्वारा किए गए आंदोलन प्रदर्शन व प्रयास के बाद एसईसीएल चिरमिरी क्षेत्र के स्थानीय प्रबंधन में आई सक्रियता के बाद अब स्थानीय स्तर पर बंद हो चुकी कुछ कोयला खदानों के पुनः संचालन के अवसर जहां बनते दिख रहे हैं !

वहीं नई खदानों के शुरुआत के लिए भी प्रयास जारी हो गए हैं यह जानकारी देते हुए मनेंद्रगढ़ विधानसभा के पूर्व भाजपा विधायक व वर्तमान प्रदेश किसान मोर्चा अध्यक्ष श्याम बिहारी जायसवाल ने बताया है कि पिछले कुछ वर्षों से कोयला क्षेत्र चिरमिरी में  शासकीय अनुमति में विलंब होने के साथ-साथ स्थानीय स्तर पर अधिकारियों में ढिलाई, सुस्ती तथा अपने जिम्मेदारियों के प्रति सही कर्तव्य नहीं निभाने के चलते चिरमिरी क्षेत्र संकट से जहां घिर गया है !

वहीं पर अब इसके अस्तित्व पर भी सवाल खड़ा होने लग गए हैं जिससे निजात दिलाने के लिए भारतीय जनता पार्टी ने एसईसीएल के कंपनी मुख्यालय से लेकर स्थानीय अधिकारियों के विरुद्ध मोर्चा खोलते हुए जहां धरना प्रदर्शन किया वहीं ज्ञापन देकर क्षेत्र में अनावश्यक रूप से बंद कर दी गई खदानों को पुनः खोलने मे आ रहे व्यवधानो को दूर करके पुनः संचालित करने के लिए दबाव बनाया वहीं पर नई खदानों को खोलने के लिए भी कोल इंडिया चेयरमैन से लेकर कोयला मंत्री तक पत्र व्यवहार किया।

जिसके फलस्वरूप स्थानीय स्तर पर एसईसीएल के अधिकारियों की सक्रियता अब नजर आने लगी है जिससे क्षेत्र में बंद हो चुकी खदानों को खोलने के दिशा में पुनः प्रयास आरंभ हो गए हैं वहीं नए खदानों को खोलने के लिए भी आवश्यक जानकारियां व कदम उठाए जा रहे हैं।

 जायसवाल ने जानकारी देते हुए बताया कि उनके कार्यकाल में चिरमिरी क्षेत्र की खदानों के विस्तार व  नये क्षेत्र के संबंध में आ रहे बाधाओ और  व्यवधनो को दूर करने के लिए जहां प्रयास किए गए थे उसमें पिछले 3 वर्षों में काफी शिथिलता आई है चिरमिरी ओपन कास्ट जो कि चिरमिरी क्षेत्र की प्रमुख माइंस के रूप में वर्तमान में संचालित है उसके विस्तार व भविष्य की संभावनाओं को देखते हुए !

उनके द्वारा चिरमिरी, भंडारदेई व भुकभुकी में भूमि अधिग्रहण संबंधी कार्यों की शुरुआत कराई गई थी लेकिन पिछले 3 सालों से इस दिशा में एसईसीएल द्वारा ना कोई प्रगति की गई और न ही राज्य शासन या जिला प्रशासन द्वारा कोई सहयोगात्मक कदम उठाया गया जिसके चलते चिरमिरी ओपन कास्ट के विस्तार मे संकट खड़ा होने लगा है। 

इस विषय के साथ भाजपा चिरमिरी मंडल द्वारा अंजन हील माइंस में अंडर ग्राउंड की संभावना ना होने पर ओपन कास्ट का स्वरूप देने तथा ठेकेदार द्वारा अधूरा काम छोड़कर गए वेस्ट चिरमिरी में पुनः टेंडर करार कर काम आरंभ करने एवं एनसीपीएच कोरिया व डोमन हिल के साथ-साथ कुरासिया में भूमिगत खदान के विस्तार के साथ-साथ ओपन कास्ट कुरासिया को पुनः आरंभ करने के लिए पत्र लिखकर पुरजोर ढंग से मांग की गई थी क्योंकि भाजपा का यह मानना है कि इन क्षेत्रों में भरपूर मात्रा में कोयले की प्रचुर मात्रा मौजूद होने के बाद भी छोटे-मोटे व्यवधान के चलते एसईसीएल द्वारा समय के पूर्व इन  खदानों को बंद कर दिया गया या अस्थाई तौर पर रोक लगा कर रखी गई है जिसे दूर करना चिरमिरी हित में आवश्यक है।