breaking news New

नवोदय व एकलव्य विद्यालय के लिए हुआ 16 बच्चों का चयन

नवोदय व एकलव्य विद्यालय के लिए हुआ 16 बच्चों का चयन


भानुप्रतापपुर । शाहिद वीर नारायण शारीरिक, बौद्धिक उत्थान समिति द्वारा क्षेत्र के बच्चों को निःशुल्क कोचिंग दी जा रही है जिसमें से 16 बच्चों का चयन नवोदय व एकलव्य विद्यालय के लिए हुआ है। इन बच्चों का रविवार को एसडीएम जितेंद्र यादव (आइएएस) के हाथों सम्मान किया गया। साथ ही बच्चों को पढ़ाई में हर सम्भव मदद करने का भरोसा भी दिलाया। बच्चों को पढ़ाए जाने वाले कक्ष में पंखे की मांग पर तत्काल पंखा लगाने की बात कही। बच्चों के साथ उन्हें पढ़ाने वाले शिक्षकों को भी सम्मानित किया गया।

इस दौरान उपस्थित बच्चों को एसडीएम ने कहा कि आपको कोई भी जरूरत हो तो आप मुझसे कहें, जो संभव होगा मैं मदद करूँगा। आदिवासी समाज से मुझे काफी कुछ सीखने को मिला है, यहाँ सभी लोग एक दूसरे से जुड़े हुए हैं। आपलोग भाग्यशाली हैं जो यहाँ आपके बीच पढ़े लिखे लोग आपकी सहायता कर रहे हैं। मैं भी आपको पढ़ाने के लिए समय देने का प्रयास करूँगा।

जब आप पढ़ाई शुरू करें तो उसे बीच मे न छोड़े, 1 महीने का गेप आपको 6 महीने पिछे ले जाएगा। हमेशा अपने गुरु से जुड़े रहें। यहाँ से बाहर जाने के बाद माता पिता के सिखाये संस्कारों को न भूलें। हमेशा सच्चाई और ईमानदारी के राश्ते पर चलें। दुनिया मे काफी चोर हैं उन चोरो की संख्या और नहीं बढ़ानी है। गांव से निकलकर बड़े शहरों में चले जाना सफलता नहीं है, जहां से आपने शुरुवात की है कामयाब होकर वहाँ वापस आना ही असली सफलता है।

कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे वन परिक्षेत्र अधिकारी दुर्गुकोंदल देवलाल दुग्गा ने कहा कि बहुत मेहनत से यहाँ बच्चों ने पढ़ाई की और विभिन्न विद्यालय में प्रवेश पाया, जो चयनित नहीं हुए हैं वे अगले वर्ष के लिए अच्छे से मेहनत करें। एक शिक्षा ही ऐसा माध्यम है जिसके बल बुते हम अच्छे पदों पर जा सकते हैं। हमारे बीच एक अच्छे अधिकारी मौजूद हैं जिनका अधिक से अधिक लाभ लें। सपना देंखें, पढ़ाई करें और उसे पूरा करने खूब मेहनत भी करें।

विशिष्ट अतिथि वन परिक्षेत्र अधिकारी भानुप्रतापपुर  मुकेश नेताम ने कहा कि नवोदय से मेरा काफी जुड़ाव है क्योंकि मैं भी वहाँ से पढ़ा हूँ। मैं आज जो कुछ भी हु उसी विद्यालय में सीखा और जीवन में उसका अनुसरण किया। हमारे जमाने मे सूचना क्रांति नहीं थी इसलिए जानकारी का अभाव था। लेकिन आज का समय अलग है पढ़ाई के साथ खेल कूद को भी प्राथमिकता दें आपके विद्यालयों में भी खेल कूद को महत्व दिया जाता है। लक्ष्य निर्धारित कर ध्यान लगाएं और अच्छे से पढ़ाई करें।

बीआरसी राधे लाल नुरूटी ने कहा कि नगर में लाइब्रेरी की स्थापना का कार्य युद्ध स्तर पर जारी। एसडीएम सर ने इसके लिए 15 लाख बजट जुटाया है। सपने बड़े होने चाहिए और दृण संकल्प लेकर लक्ष्य निर्धारित कर पढ़ाई करें तब ऐसे मुकाम पाना मुश्किल नहीं है। 

समिति अध्यक्ष हरि सिंह उइके ने कहा कि इस निःशुल्क कोचिंग में पढ़ाने वाले सहयोगकर्ता शिक्षकों का धन्यवाद। हमारे सामने कई प्रकार के व्यवधान आये लेकिन सबको पार करते हुए 16 बच्चों का हमने चयन कराया। इस कार्य में एसडीएम साहब का विशेष मार्गदर्शन एवं वन परिक्षेत्र भानुप्रतापपुर और दुर्गुकोंदल का भी विशेष सहयोग प्राप्त हुआ। नगर के पार्षद मनीष साहू ने बच्चों को पढ़ाने के लिए व्हाइट बोर्ड दिया है।

बच्चों को एक अच्छा प्लेटफार्म दे सकें इसलिए समिति का गठन किया गया था। इस अवसर पर सरपंच संघ अध्यक्ष चेतन मरकाम, आदिवासी समाज के अध्यक्ष मानक दर्पट्टी एवं अन्य उपस्थित रहे।