breaking news New

अवैध प्लाटिंग को लेकर जमीन दलालो पर बरसेगा चांपा एसडीएम का कहर

अवैध प्लाटिंग को लेकर जमीन दलालो पर बरसेगा चांपा एसडीएम का कहर

चांपा। चांपा में इन दिनों अवैध प्लाटिंग का मामला जोर पकड़ चुका है जिसका चर्चा नगर ही नही दिगर जिला मे भी चर्चा हो रहा है जिसकी जानकारी चांपा एसडीएम डॉ सुभाष राज तक पहुंच गई और प्लाटिंग की इस करतूत और जादुई करामत को देखते हुए व्यक्तिगत संज्ञान में लेकर चांपा एसडीएम डॉ सुभाष राज ने तत्परता दिखाते हुए सुबह से लेकर आज दिनभर प्लाटिंग की जायजा लिये और अपने कर्मचारियों को पंचनामा तैयार कर दस्तावेज प्रस्तुत करने के लिए आदेशित किया हैं

वहीं आपको बता दें कि एसडीएम ने अवैध प्लाटिंग पर सख्ती दिखाते हुए आगे बताया इस तरह कि मामला संज्ञान में आता है तो तत्काल   उनके रजिस्ट्री पर रोक लगाने की कार्रवाई  की जाएगी प्रसंग वश यहां उल्लेख कर दें कि बीते कुछ सालों से चांपा तहसील क्षेत्र में अवैध प्लाटिंग का अवैध धंधा जोर-शोर के साथ फल-फूल रहा है और जमीन दलालों के लिए चांपा तहसील का चित्र के रूप में तब्दील हो चुका है या भी देखा जा रहा है कि भोले-भाले किसानों को बहला-फुसलाकर उनकी खेती हरि का जमीन तथा रहवासी जमीन आदि को औने पौने दामों में खरीदकर उसे अलग-अलग प्लाट काटकर बेचने का कारोबार फल फूल रहा है !

यही नहीं अवैध प्लाटिंग का कारोबार करने वाले कुछ कतिपय लोगों ने सरकारी जमीन तक को नहीं छोड़ा है और उन्हें पहले घेरा कब्जा करके छोड़ दिया जाता है कुछ समय बाद प्रशासन और राजस्व अधिकारियों के आंख में धूल झोंक कर ऐसे बेशकीमती जमीन को टुकड़ों में काटकर बेचने का परंपरा चांपा तहसील क्षेत्र में चल निकली है और इसी के तर्ज पर छोटे-मोटे दलाल अब बड़े दलाल बन कर गरीब किसानों के बेशकीमती जमीन सहित सरकारी जमीन को बेचकर मालामाल ऑफर चला कर चांदी काट रहे हैं और इसी के चलते कल तक साइकिल सवार जमीन दलाल आज टाटा मैजिक जैसे गाड़ियों का मालिक बन बैठे हैं

इससे साफ जाहिर है कि जमीन दलाली तथा अवैध प्लाटिंग का धंधा जोरों से चल रहा है जिसका फायदा उठाकर छुटभैया किस्म के जमीन दलाल अब अवैध प्लाटिंग का सरताज बनकर उभर रहे हैं इस संदर्भ में कुछ जागरूक लोगों के द्वारा चांपा तहसील के राजस्व अधिकारी एवं एसडीएम डॉक्टर सुभाष राज तक पहुंचाई है जिस पर उन्होंने संज्ञान लेते हुए ऐसे मौका स्थलों में जाकर बारीकी से मौका मुआयना किया और अपने अधीनस्थ अधिकारी एवं कर्मचारियों को ऐसे कारोबार का विस्तृत जानकारी के लिए आदेश जारी किया गया है !