breaking news New

डूबती 'लड़की' को बचाने में लगे थे दमकल कर्मी-पुलिस-एंबुलेंस, निकली सेक्स डॉल

डूबती 'लड़की' को बचाने में लगे थे दमकल कर्मी-पुलिस-एंबुलेंस, निकली सेक्स डॉल

जापान में लोग उस समय हैरान रह गए जब एक डूबती महिला को बचाने के लिए पुलिस से लेकर एंबुलेंस तक कड़ी मशक्कत करते रहे लेकिन जब उन्होंने ध्यान से इस महिला को देखा तो उन्हें पता चला कि ये कोई महिला नहीं बल्कि रबर की एक सेक्स डॉल थी. ये घटना हाकिनोहे शहर में घटी है. उस समय यूट्यूबर तनाका नात्सुकी एक वीडियो बना रही थीं जब उन्होंने देखा था कि पुलिस, फायर इंजन और एंबुलेंस इस शहर के एक तटीय इलाके के पास आकर किसी महिला को बचाने की कोशिश कर रहे थे.

नात्सुकी को भी यही लगा कि पुलिसवाले एक डूबती हुई महिला को बचाने की कोशिश कर रहे हैं. उन्होंने इस बारे में ट्विटर पर लिखा- मैं अपनी फिशिंग वीडियो को फिल्म कर रही थी तभी मैंने देखा कि पानी में एक महिला डूब रही है लेकिन वो मेरी गलतफहमी थी और वहां मौजूद सभी लोग हैरान रह गए थे. 

उन्होंने अपने ट्वीट में आगे लिखा कि वहा मौजूद किसी शख्स को ऐसा लगा कि नदी में जो डूब रही है वो एक महिला है और उसके बाद इस शख्स ने पुलिस को फोन लगा दिया. देखते ही देखते वहां पुलिस, फायर ट्रक्स और एंबुलेस का जमावड़ा लग गया लेकिन जब इस महिला को बचाया गया तो सभी ठगा सा महसूस कर रहे थे. 

इसके अलावा सोशल मीडिया पर एक शख्स ने कमेंट करते हुए कहा कि ये भले ही कई लोगों के लिए फनी हो सकता है लेकिन एंबुलेंस, पुलिस और इमरजेंसी सर्विस के लिए बिल्कुल फनी नहीं है. लोगों को समझना चाहिए कि उन्हें अपना कूड़ा ठीक से डिस्पोज करना चाहिए जिससे प्रशासन का समय खराब ना हो. जापान की सेक्स इंडस्ट्री से जुड़ी एक रिपोर्ट के अनुसार, जापान में हर साल 2000 सेक्स डॉल्स बिकती हैं. इन डॉल्स को ठीक ढंग से डिस्पोज करना होता है. हालांकि जो लोग अपने सेक्स डॉल्स पार्टनर्स के साथ भावनात्मक रूप से जुड़े होते हैं, कुछ कंपनियां उनके लिए खास अंतिम संस्कार कराती हैं. ओसाका के फोटोग्राफी स्टूडियो में लेया अराटा नाम की महिला सेक्स डॉल्स के अंतिम संस्कार के लिए जानी जाती हैं. उन्होंने स्पैनिश न्यूज एजेंसी ईएफई के साथ बातचीत में कहा था कि उन्होंने ये बिजनेस इसलिए शुरू किया था क्योंकि उन्हें लगता था कि ये कई लोगों की जरूरत है.

उन्होंने कहा था कि कई लोग ऐसे होते हैं जो अपनी सेक्स डॉल्स के लिए एक उचित अंतिम संस्कार की व्यवस्था चाहते हैं और वे उन्हें यूं ही नहीं फेंक देना चाहते हैं क्योंकि इनका अपनी डॉल्स से काफी जुड़ाव होता है. इसके अलावा कुछ लोग शर्मिंदगी के चलते भी इन डॉल्स को कूड़ेदान में फेंकना नहीं चाहते हैं.