breaking news New

मानसिक दिव्यांग बच्चों के लिए खोली गई सार्थक स्कूल

मानसिक दिव्यांग बच्चों के लिए खोली गई सार्थक स्कूल


धमतरी !  सर गौरी शंकर श्रीवास्तव सेवा समिति धमतरी द्वारा संचालित मानसिक दिव्यांग प्रशिक्षण केंद्र सार्थक स्कूल में नए सत्र को सुचारू रूप से शुरू करने के लिए अभिभावकों की एक मीटिंग रखी गई। जिसमें सभी पालकों को स्कूल के संदर्भ में कोविड-19 के  गाइडलाइन  की जानकारी दी गई ।

       सर्वप्रथम पालकों ने अपनी अपनी बातें रखीं और कहा- स्कूल को बंद हुये एक लंबा समय हो गया है और उनके बच्चे स्कूल आना चाहते हैं।   और  अपनी ज़िम्मेदारी मानकर वे उन्हें स्कूल भेजने के लिए तैयार भी हैं।

     सार्थक अध्यक्ष डा. सरिता दोशी ने कहा कि, इन विशेष बच्चों का स्वास्थ्य सर्वोपरि है ,पालक घर पर और हम स्कूल में उनके स्वास्थ्य की सुरक्षा का, मिलकर  ध्यान रखेंगे। और बच्चों को स्कूल भेजने के लिए अनापत्ति प्रमाण पत्र भरने की जानकारी पालकों को  दी। इस नियम के तहत किसी भी बच्चे को स्कूल आने के लिए बाध्य नहीं किया जाएगा और अनापत्ति प्रमाण पत्र भरकर देने के बाद स्कूल में  बच्चे पूर्व की तरह, प्रशिक्षण के लिए  नियमित आ सकेंगे।  

मीटिंग की  रूपरेखा और वार्षिक एजेंडा के विषय में  संस्था की सचिव स्नेहा राठौड़, वरिष्ठ प्रशिक्षिका सुधापुरी गोस्वामी,प्रशिक्षिका मैथिली गोड़े,कम्प्यूटर प्रशिक्षक मुकेश चौधरी,डांस एवं एक्टिविटी टीचर स्वीटी सोनी, संगीत की टीचर देविका दीवान ने पालकों  को अवगत कराया। 16 पालकों ने स्वेच्छा से अनापत्ति फॉर्म  भर कर हस्ताक्षर कर बच्चों को स्कूल भेजने  की स्वीकृति दी। 


       धमतरी शहर और गांवों के पालक गण ज्ञानिक राम सारवा, डेरहा राम साहू ,राधु राम साहू, जीवराज साहू, सीमा साहू, सीमा मसीह, लता तिवारी, सुषमा बघेल ,सावित्री आहूजा ,ओमेश्वरी साहू ,संगीता साहू ,मीना चक्रधारी, रंभा दीप, सुनीता मंडावी ,अनिल जैन, चमेली सारवा सार्थक स्कूल में मीटिंग में  शामिल हुए।

गौरतलब है कि, स्कूल बंद होने की  स्थिति में ऑनलाइन प्रशिक्षण के साथ-साथ प्रशिक्षक गण आत्मनिर्भरता की दिशा में भी प्रयास करते रहे हैं। इसके अंतर्गत उन्होंने रक्षाबंधन के अवसर पर मौली की कलात्मक राखियां बनाई थी, और सार्थक संस्था के माध्यम से उनका विक्रय किया गया था। इसका उद्देश्य रखा गया था कि, राखियों के विक्रय से प्राप्त लाभ की राशि को स्कूल के बच्चों के हितार्थ उपयोग में लिया जाएगा।

 ग्राम खपरी की सार्थक स्कूल की एक छात्रा वत्सला साहू की माता श्रीमती ओमेश्वरी साहू हृदय रोग की गंभीर बीमारी से जूझ रही है, इसकी जानकारी होने पर सार्थक संस्था के संरक्षक एवं पदाधिकारी तथा स्कूल के शिक्षकों ने निर्णय लेकर  उक्त 5000 रुपयों की  लाभराशि को सहयोग के लिए ओमेश्वरी साहू को प्रदान किया गया।


सार्थक संस्था के संरक्षक डॉक्टर ए . के. रावत धमतरी एवं डॉक्टर मोहंती रायपुर के द्वारा ओमेश्वरी का निशुल्क चेकअप किया जा रहा है और दयाल जी सुंदर जी मिराणी  चैरिटेबल ट्रस्ट धमतरी के सौजन्य से उसे दवाइयां प्रदान की जा रही हैं।