breaking news New

विश्व अंतरिक्ष सप्ताह के अंतर्गत विज्ञान व प्रौद्योगिकी पर किया गया जागरुकता

विश्व अंतरिक्ष सप्ताह के अंतर्गत विज्ञान व प्रौद्योगिकी पर किया गया जागरुकता


दंतेवाड़ा। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संस्थान इसरो और केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड सीबीएसई के सहयोग से अटल इनोवेशन मिशन, नीति आयोग भारत सरकार द्वारा अटल स्पेस चैलेंज को विश्व अंतरिक्ष सप्ताह 2021 से सम्मिलित किया गया।

इसे जागरुक करने तथा विद्यार्थीयों के प्रतीभा व सृजनात्मकता को नवाचार गतिविधियां द्वारा प्रकाशित करने में  दंतेवाड़ा के शिक्षक अमुजुरी बिश्वनाथ जुड़े हुए है। विश्व अंतरिक्ष सप्ताह 2021 हेतु छत्तीसगढ़ से एक मात्र आयोजक रूप से डब्लूएसडब्लू संघ द्वारा विश्वनाथ को अधिकाररिक रूप से स्वीकृति मिली है।

स्पेस फाउन्डेशन कोलोराडो यूएसए के अंतर्राष्ट्रीय शिक्षक सम्पर्क अधिकारी व शिक्षक अमुजूरी बिश्वनाथ द्वारा 22वां विश्व अंतरिक्ष सप्ताह 2021 के अंतर्गत दंतेवाड़ा जिले के जावंगा एजुकेशन सिटी के आस्था विद्या मंदिर में अंतरिक्ष विज्ञान व प्रौद्योगिकी पर जागरूकता कार्यक्रम आयोजित किया गया। उन्होंने विद्यार्थीयों को समझाते हुए बताए कि अंतरिक्ष विज्ञान और प्रौद्योगिकी जो रॉकेट लॉन्चिंग, उपग्रह संचार, ग्रह प्रणाली, मौसम पूर्वानुमान आदि के लिए बहुत ही उपयोगी है।


मानव स्थिति की बेहतरी के लिए अंतरिक्ष विज्ञान और प्रौद्योगिकी के योगदान महत्त्वपूर्ण है। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) व राष्ट्रीय वैमानिकी और अंतरिक्ष प्रशासन (नासा) के वैज्ञानिकों, अंतरिक्ष यात्रियों, अंतरिक्ष विशेषज्ञों के योगदान के बारे में बताया। इस दौरान चंद्रयान 2 के मॉडल का प्रदर्शनी के माध्यम से बताया की इसके गतिविधियों जो इसरो द्वारा 98% सफल रहा। इस कार्यक्रम में आस्था विद्या मंदिर के छात्रों ने अंतरिक्ष आधारित प्रश्नोउत्तरी के बारे में दिलचस्पी भाव से सीखे। इस कार्यक्रम में शिक्षक ईश्वरी प्रसाद नायक और विद्यार्थीयों ने उत्साह के साथ उपस्थित थे।