breaking news New

कांग्रेस और वामपंथी आंदोलन को दे रही हवा : विपक्ष के दुष्प्रचार दूर करें भाजपा कार्यकर्ता : सुशील

 कांग्रेस और वामपंथी आंदोलन को दे रही हवा : विपक्ष के दुष्प्रचार दूर करें भाजपा कार्यकर्ता : सुशील

पटना।  भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के वरिष्ठ नेता एवं बिहार के पूर्व उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने पार्टी कार्यकर्ताओं को कोरोना वैक्सीन और कृषि कानूनों पर विपक्ष के दुष्प्रचार को घर-घर जाकर दूर करने का निर्देश दिया।

राज्यसभा सांसद मोदी ने रविवार को यहां स्थानीय गेट पब्लिक लाइब्रेरी में आयोजित भाजपा, पटना महानगर जिला कार्यसमिति की बैठक को सम्बोधित करते हुए कहा कि कोरोना वैक्सीन और केन्द्र सरकार के तीन नए कृषि कानूनों को लेकर विपक्ष की ओर से दुष्प्रचार किया जा रहा है। ऐसे में भाजपा कार्यकर्ता घर-घर जाकर लोगों को हकीकत बतायें। इसके साथ ही अयोध्या में निर्माणाधीन राममंदिर के लिए 15 जनवरी से धन संग्रह का व्यापक अभियान शुरू होने वाला है। भाजपा कार्यकर्ता हर दरवाजे पर जाएं और हर एक परिवार से सहयोग लें।

 मोदी ने कहा कि भारत दुनिया का पहला देश है जिसने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में जहां पूरी मुस्तैदी से कोविड-19 का मुकाबला किया है वहीं एक साल के अंदर वैक्सीन का निर्माण और सफल परीक्षण के बाद अब 16 जनवरी से टीकाकरण का अभियान शुरू करने वाला है। अब जब वैक्सीन आ गया है तो राष्ट्रीय जनता दल (राजद)-कांग्रेस सहित विपक्षी दलों द्वारा मुल्लाओं, कट्टरपंथियों को खुश करने के लिए तरह-तरह के दुष्प्रचार किए जा रहे हैं। भाजपा कार्यकर्ता टीकाकरण में सहयोग के साथ ही दुष्प्रचारों का भी डटकर मुकाबला करें।

भाजपा नेता ने कहा कि प्रधानमंत्री  मोदी ने बार-बार स्पष्ट किया है कि किसी भी कीमत पर न न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) समाप्त होगा और न ही कोई उद्योगपति किसानों की एक इंच जमीन पर भी कब्जा कर पायेगा। इसके बावजूद पंजाब और दिल्ली के एक-दो सीमावर्ती राज्यों के मुट्ठी भर बड़े और सम्पन्न लोगों के साथ कांग्रेस और वामपंथी पार्टियां किसानों के नाम पर आंदोलन को हवा दे रही हैं। यदि ये तीनों कृषि कानून किसानों के खिलाफ होता तो देश के अन्य राज्यों के किसान भी इसके विरोध में होते।

 मोदी ने बिहार के किसानों को धन्यवाद दिया कि उन्होंने जिस तरह राजद-कांग्रेस के भारत बंद और धरना-प्रदर्शन को नकार दिया उसी प्रकार अब 15 जनवरी से शुरू होने वाले कांग्रेस के कथित किसान आंदोलन को भी नकार कर प्रधानमंत्री का साथ देंगे। उन्होंने कहा कि पिछले 7 साल में केन्द्र सरकार ने लागत के डेढ़ गुना समर्थन मूल्य देने का वायदा पूरा करते हुए धान के समर्थन मूल्य में 538 रुपये की वृद्धि कर अब 1868 रुपये प्रति क्विंटल कर दिया है।