breaking news New

नरेगा कार्यक्रम अधिकारी पर रोजगार सहायक ने लगाएं 50 हजार रिश्वत मांगने का आरोप, क्लेक्टर दे चुके कार्यक्रम अधिकारी के सेवा समाप्ति के आदेश

नरेगा कार्यक्रम अधिकारी पर रोजगार सहायक ने लगाएं 50 हजार रिश्वत मांगने का आरोप, क्लेक्टर दे चुके कार्यक्रम अधिकारी के सेवा समाप्ति के आदेश

सुरजपुर, 27 नवंबर। जनपद पंचायत सुरजपुर के प्रभारी मनरेगा कार्यक्रम अधिकारी के ऊपर एक रोजगार सहायक ने 50 हजार रुपये रिश्वत मांगने की बात कही है। साथ ही राशि नहीं देने पर गलत तरीके से सेवा सेवा समाप्ति करने का आदेश पारित करवाने आरोप लगाया है। 

गौरतलब है कि सुरजपुर जनपद पंचायत अंतर्गत ग्राम करवा के रोजगार सहायक खुर्सीद अंसारी ने स्टाम्प में शपथ पत्र में जिला प्रशासन से लिखित आवेदन शौप कर आरोप लगाया कि सुरजपुर जनपद पंचायत में पदस्त प्रभारी कार्यक्रम अधिकारी सुजीत पांडेय द्वारा उनसे 50 हजार रुपये रिश्वत की मांग अपने दफ्तर में मांगी गई थी। जब इतनी मोटी रकम नही दे पाया तो कार्यक्रम अधिकारी श्री पांडेय द्वारा सेवा समाप्ति की धमकी दिया गया। जिसके कुछ दिनों के उपरांत  27 /05/ 2020 को जनपद पंचायत में लिखित आदेश देकर जनपद सुरजपूर में अटैच कर दिया था। इसके उपरांत पैसे की पुनः मांग की गई। जब पैसा नहीं देने पर 3 माह का समय देते हुए पत्र क्रमांक 841 दिनांक 5/08/2020 को कारण बताओं नोटिस जारी किया गया। रोजगार सहायक ने नोटिस का जवाब भी दिया था। जिसके 3 माह के उपरांत 4/11/2020 को रोजगार सहायक खुर्सीद अंसारी को अनिमियता बरते जाने की बात कह कर जनपद सीईओ ने कार्य से पृथक कर दिया है। 

पूर्व रोजगार सहायक ने कहा कि कार्यक्रम अधिकारी सुजीत पाण्डेय द्वारा आय दिन रोजगार सहायकों के ऊपर दबाव बनाकर पैसे की मांग करते है। जब नहीं दिया जाता है तो सेवा से पृथक करने की धमकी दी जाती है। कहते हैं कि मेरे खिलाफ शिकायत हुई थी की कुआं में मशीन लगाकर कार्य कराया गया है। पैसे दो नहीं तो सेवा से पृथक करा दूँगा। 

बतादें की प्रभारी कार्यक्रम अधिकारी को सेवा समाप्ति के आदेश क्लेक्टर दे चुके है। जिसका प्रेस रिलीज जिला प्रसाशन ने जारी किया था। जिसके महीनों गुजर जाने के बाद भी कार्यवाही शून्य है। जिससे प्रभारी कार्यक्रम अधिकारी के हौशले बुलन्द है। इस सम्बंध में जिला पंचायत सीईओ आकाश छिकारा ने कहा कि जानकारी मिल रही है। दिखवाता हूं।