breaking news New

ट्रांसपोर्ट कंपनियां: अगर आप ऐसी सामग्रियों का परिवहन कर रहे है तो जल्द करा ले रजिस्ट्रेशन, अब बिना रजिस्ट्रेशन नहीं होगा परिवहन

ट्रांसपोर्ट कंपनियां: अगर आप ऐसी सामग्रियों का परिवहन कर रहे है तो जल्द करा ले रजिस्ट्रेशन, अब बिना रजिस्ट्रेशन नहीं होगा परिवहन

राजकुमार मल/भाटापारा। खाद्य सामग्रियों का परिवहन करने वाली ट्रांसपोर्ट कंपनियों के लिए जरूरी सूचना। अब ऐसी सामग्री का परिवहन करने से पहले रजिस्ट्रेशन नंबर लेना होगा। खाद्य एवं औषधि प्रशासन द्वारा जारी होने वाले यह नंबर  जांच के दौरान नही मिले, तो भारतीय खाद्य सुरक्षा एवं मानक प्राधिकरण के नियमों के मुताबिक कार्रवाई की जाएगी।

खाद्य पदार्थों की सुरक्षा के लिए अब ट्रांसपोर्ट कंपनियां भी समान रूप से जिम्मेदार मानी जाएंगी। यह, उस रजिस्ट्रेशन नंबर से निश्चित होगा जो खाद्य एवं औषधि प्रशासन द्वारा जारी होगा और यह नंबर, उन ट्रांसपोर्ट कंपनियों को अनिवार्य रूप से लेना पड़ेगा, जो खाद्य पदार्थों का परिवहन कर रहीं हैं। यह नियम, सब्जी और फलों का परिवहन करने वाली वाहनों पर भी प्रभावी होगा। प्रशासन बहुत जल्द ट्रांसपोर्ट कंपनियों के बीच जागरूकता अभियान चलाने की तैयारी में है।

इनके परिवहन पर अनिवार्य...

खाद्य एवं औषधि प्रशासन ने जिन खाद्य सामग्रियों के परिवहन को संवेदनशील माना है, उसमें दाल ,चावल, आटा, सूजी, मैदा, पोहा, दलिया के अलावा हर वह खाद्य सामग्री शामिल है, जो रोजमर्रा के जीवन में उपयोग की जाती है। इसके अलावा गुड़, शक्कर, नमक और खाद्य तेल सहित ब्रेड, बिस्किट और केक के साथ मसालों का परिवहन करने वाली ट्रांसपोर्ट कंपनियों को भी यह रजिस्ट्रेशन नंबर लेना होगा।

फल और सब्जी  परिवहन के लिए भी...

सब्जी उत्पादन में प्रदेश भले ही काफी हद तक आत्मनिर्भर बन चुका है, लेकिन पूरे साल की मांग के लिए अपना प्रदेश, पड़ोसी राज्यों पर निर्भर है। सब्जी ही नहीं बल्कि फल के लिए तो महाराष्ट्र आज भी छत्तीसगढ़ की पहली जरूरत है। आने-जाने में लगने वाले समय के बीच फल और सब्जियों के खराब होने का अंदेशा हमेशा बना रहता है। अब इसके लिए भी ट्रांसपोर्ट कंपनियों को  जिम्मेदार माना जाएगा।

रजिस्ट्रेशन इसलिए जरूरी...

खाद्य एवं औषधि प्रशासन ने समय-समय पर की जाने वाली अपनी जांच में पाया है कि कई खाद्य सामग्रियां, परिवहन में विलंब होने की वजह से गुणवत्ता खो चुकी हैं। इसी तरह सब्जियों और फलों में भी ऐसी ही परेशानी आ रही है। प्रभावी नियम नहीं होने की वजह से, परिवहन करने वाली ट्रांसपोर्ट कंपनियां, जिम्मेदारी से बच जाया करतीं थीं। इस तरह गुणवत्ताहीन फल और सब्जी उपभोक्ताओं तक आसानी से पहुंचतीं हैं। इसे अब गंभीर माना जाकर खाद्य सामग्रियों का परिवहन करने वाली ट्रांसपोर्ट कंपनियों को जवाबदेह मानते हुए , रजिस्ट्रेशन करवाना अनिवार्य होगा।

इस संबंध में  खाद्य एवं औषधि प्रशासन असिस्टेंट कमिश्नर डॉ आर के शुक्ला ने बताया कि खाद्य सामग्रियों को गंतव्य तक सुरक्षित पहुंचाने के लिए ट्रांसपोर्ट कंपनियों को विभाग से रजिस्ट्रेशन नंबर लेना अनिवार्य होगा। इसके बाद ही वे ऐसी सामग्रियों का परिवहन करने के पात्र होंगे।