breaking news New

केंद्र सरकार के कानून के खिलाफ किसानों को गुमराह करने की साजिश : पूर्व विधायक

केंद्र सरकार के कानून के खिलाफ किसानों को गुमराह करने की साजिश : पूर्व विधायक

धमतरी ।  सिहावा विधानसभा के पूर्व विधायक पिंकी शिवराज शाह ने केन्द्र सरकार द्वारा लाए गए कृषि बिल पर विरोध करने वाले तथा कथित किसानों से कहा कि वे इस कानून पर अनर्गल बयान बाजी और विरोध कर रहे हैं और किसानों को गुमराह करने की कोशिश कर रहे हैं। 

उन्होंने ने कहा कि  आखिर इस कानून में काला क्या है? इस बात को स्पष्ट करना चाहिए।लेकिन सिर्फ काला कानून कह कर विरोध करना आपत्ति जनक है।केन्द्र सरकार ने यह भी स्पष्ट किया है कि अगर इस कानून में कोई गलत है तो सुधार करने के लिए तैयार है, लेकिन विरोध करने वाले कहीं पर इस कानून में कोई सुधार के लिए अपनी बात नही रख रहे हैं, सिर्फ गलत तरीके से आंदोलन कर देश विरोधी कृत्य कर भारत माता के आन बान और शान तिरंगा झंडा का अपमान कर रहे हैं, ऐसे लोग देश को तोड़ना चाहते हैं, भारत माता के अपमान करने वालों के इस कृत्य से पुरा देश आक्रोषित है।तिरंगा झंडा का अपमान बर्दाश्त नही किया जायेगा, हमें देश विरोधी लोगों का पहचान करना होगा, कुछ विरोधी दल सिर्फ विरोध करना है इस लिए उनके साथ खड़े हैं लेकिन विरोध का कोई मुद्दा उनके पास नही है।

विरोधी दल का भी कोई धर्म व पैमाना होता है।लेकिन यहां तो अफवाह के माध्यम से देश के विकास किसानों के विकास का विरोध कर रहे हैं।देश के यशस्वी  प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी ने हमेशा किसानों के हित के लिए काम किया है ।वहीं छत्तीसगढ़ प्रदेश में अपने आपको किसान हितैशी बताने वाली भूपेश सरकार किसानों से किए गए वायदे पुरा नही कर रही है जिसके चलते लगातार किसान आत्महत्या कर रहे हैं।प्रदेश में सरकार बनने से पहले किसानों से वादा किया गया था 2500 रू समर्थन मुल्य देंगे अब जब देने की बारी होती है। 

 प्रदेश सरकार प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नाम अनर्गल बयान बाजी करके अपने किए गए वायदे पर पर्दा डालने और प्रदेश की जनता को गुमराह करने की कोशिश करती है।लेकिन देश एवं प्रदेश की जनता अच्छी तरह से समझ चुकी है।काठ की बर्तन चुल्हे में बार बार नही चढ़ती है।प्रदेश की भुपेश सरकार किसानों के साथ लगातार अन्याय कर रही है।इसका परिणाम आने वाले समय पर उन्हे अवश्य मिलेगा।मुख्यमंत्री भूपेश बघेल बताएं की इस वर्ष किसानों के फसल का पुरा दाम जो उन्होने घोषणा किया है 2500रू कब देंगे?क्योंकि पिछला फसल का दाम किसानों को अभी तक नही मिला है।उन्हे इस संबंध में जनता को स्पष्टीकरण देना चाहिए।