breaking news New

ग्राम पंचायत पुनपल्ली में पहली बार किसानों ने किया रागी फसल की खेती, फसल देखकर किसान हुए खुश

ग्राम पंचायत पुनपल्ली में पहली बार किसानों ने किया रागी फसल की खेती, फसल देखकर किसान हुए खुश

कृष्णा नायक/दोरनापाल। आहार वाली फसल रागी या मडिया लघु धान्य पौष्टिक जिसे आदिवासी बाहुल्य क्षेत्रों में बोया जाता है। इसे खाने और पेय पदार्थ के रूप में उपयोग किया जाता है। रागी फसल के उत्पादन में 1 एकड रकबा में 4-5 किलो बीज दर लेते हैं जिसे कतार पद्धति से लगाया जाता है। यह फसल 110 से 115 दिनों में पककर तैयार हो जाती है। 

इस क्षेत्र में किस्म - छ.ग. रागी उपयुक्त है किसान के द्वारा 1 एकड़ भूमि में खेती की सभी कार्यों की लागत 10 से 12 हजार रुपये खर्च आती है एवं 8 क्विंटल.प्रति एकड उपज प्राप्त होती है। रागी बीज की बाजार मूल्य प्रति क्विंटल 4500 रुपये हैं।


लागत के खर्च के एवज में किसान को 60 से 70 % आय की प्राप्ति होती है। इस फसल से किसानों में काफी ख़ुशी नजर आ रही है और किसानों का कहना है की अब धान की जगह रागी की खेती करेंगे। इस संबंध में कृषि विस्तार अधिकारी येम कुमार ठाकुर को बताया की अगले सीजन में धान के जगह आहार मूंग रागी का खेती करूँगा।