breaking news New

उम्मीद : जून तक कोरोना से मिल जाएगी राहत..? वैज्ञानिकों ने बताया कब पीक पर होगा संक्रमण..मुंबई में पिछले 24 घंटे में सिर्फ 2678 नये मामले!

उम्मीद : जून तक कोरोना से मिल जाएगी राहत..? वैज्ञानिकों ने बताया कब पीक पर होगा संक्रमण..मुंबई में पिछले 24 घंटे में सिर्फ 2678 नये मामले!

भारत में कोरोना वायरस की दूसरी लहर का कहर जारी है. हालांकि, कोरोना कहर के बीच में एक राहत की भी खबर है कि इस महीने कोरोना अपने पीक पर होगा, मगर जून में नये मामलों में बड़ी गिरावट देखने को मिल सकती है. हैदराबाद में भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान में प्रोफेसर माथुकुमल्ली विद्यासागर का अनुमान है कि आने वाले कुछ दिनों में कोरोना अपने पीक पर होगा.

आइआइटी कानपुर के प्रोफेसर मनिंद्र अग्रवाल द्वारा तैयार मॉडल का हवाला देकर उन्होंने कहा कि मौजूदा अनुमान के मुताबिक, जून के अंत तक हर दिन 20 हजार केस देखने को मिल सकते हैं. हालांकि, विद्यासागर ने जरूरत के हिसाब से इसे संशोधित करने की भी बात कही. अगर यह अनुमान सही साबित होता है, तो कोरोना की दूसरी लहर झेल रहे भारत के लिए राहत की बात होगी, क्योंकि अभी देश में हर दिन करीब चार लाख से अधिक कोरोना केस सामने आ रहे हैं. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक, बीते तीन दिनों से लगातार देश में रोजाना कोरोना के चार लाख से अधिक मामले आ रहे हैं और रोजाना होने वाली मौत की संख्या ने भी चार हजार का आंकड़ा पार कर लिया है.

कोरोना के आंकड़ों का एनालिसिस कर रहे आइआइटी कानपुर के प्रोफेसर प्रद्मश्री मनिंद्र अग्रवाल ने दावा किया है कि जुलाई तक कोरोना की दूसरी लहर खत्म हो जायेगी. प्रोफेसर अग्रवाल ने बताया कि अभी ओड़िशा, असम और पंजाब के पीक का समय कुछ साफ नहीं हो पाया है. इसके लिए कुछ इंतजार करना पड़ेगा. उन्होंने कहा कि अगले कुछ दिनों के डेटा पर शोध करने पर हम यह मालूम कर लेंगे. प्रोफेसर अग्रवाल ने बताया कि दिल्ली और मध्यप्रदेश का पीक आ चुका है, जबकि हरियाणा में पीक का समय आगे बढ़ गया है.

मुंबई में कोरोना संक्रमण की संख्या लगातार घट रही है. एक समय सबसे ज्यादा प्रभावित रहने वाली मुंबई में पिछले 24 घंटे में सिर्फ 2678 नये मामले सामने आये हैं. मुंबई में एक अप्रैल को 8423 केस सामने आये थे, अब घट कर एक-चौथाई रह गया है.

नगालैंड की टीआर जेलियांग सरकार ने 18 साल से ऊपर के युवाओं को कोविड-19 वैक्सीन फ्री लगाने के लिए अन्य संबंधित गतिविधियों के लिए अपने विभागों के गैर-विकास खर्च में 20% तक की कटौती करने का फैसला किया है. एक अधिकारी ने बताया कि यात्रा और कार्यालय खर्च से लेकर मोटर वाहन और रखरखाव तक गैर-विकास खर्च में कटौती करके करीब 47.68 करोड़ रुपये जुटाये जायेंगे.

जुलाई में कोरोना की दूसरी लहर के शांत होने के बीच अक्तूबर में तीसरी लहर का भी दावा किया जा रहा है. विशेषज्ञों का कहना है कि कोरोना का डेटा एनालिसिस करने पर पजा चला है कि अक्तूबर से ही तीसरी लहर भी शुरू हो जायेगी. हालांकि, कुछ विशेषज्ञों का मानना है कि यह केवल अनुमान है और इसके पूरी तरह सही होने की कोई संभावना नहीं है. यह लोगों के हाथ में है, वे चाहें तो कोरोना की तीसरी लहर को आने से रोक सकते हैं.