breaking news New

पंचायती अखाड़ा श्री निरंजनी ने 17 अप्रैल को कुंभ मेला समापन की घोषणा कर दी है।

पंचायती अखाड़ा श्री निरंजनी ने 17 अप्रैल को कुंभ मेला समापन की घोषणा कर दी है।


हरिद्वार में कोविड-19 संक्रमण के बढ़ते प्रसार के चलते पंचायती अखाड़ा श्री निरंजनी ने 17 अप्रैल को कुंभ मेला समापन की घोषणा कर दी है। अखाड़े के कुंभ मेला प्रभारी एवं सचिव महंत रविंद्रपुरी ने कहा कि कोरोना का प्रसार तेज हो गया है। साधु संत और श्रद्धालु इसकी चपेट में आने लगे है। मेला आईजी सजंय गुंज्याल ने बताया कि अगर बॉर्डर्स की बात की जाए तो एसओपी के अनुसार पुलिस विभाग और स्वास्थ्य विभाग ने सतर्कता से चेकिंग अभियान चलाया। अगर बॉर्डर पर टेस्टिंग की बात की जाए तो 1 अप्रैल से लेकर 14 अप्रैल तक 1 लाख 54 हजार 466 टेस्ट किए गए थे, जिसमें से 222 लोग पॉजिटिव आए। साथ ही जो लोग टेस्टिंग नहीं करवाना चाह रहे थे और साथ ही आरटीपीसीआर कि रिपोर्ट भी नहीं लाए ऐसे 9 हजार 786 वाहन और 56 हजार 616 लोगों को वापस भेजा गया है।

पंचायती निरंजनी अखाडा के रवींद्र पुरी महाराज ने जानकारी दी, “यह महामारी का समय है। हमने एक निर्णय लिया है और गुजरात, महाराष्ट्र और भारत के अन्य हिस्सों से साधुओं को, जो यहां आए थे, अपने-अपने गांवों में लौटने के लिए कहा है। हरिद्वार की हालत बिगड़ती जा रही है। केवल कुछ मुट्ठी भर साधु ही 27 अप्रैल के संत समागम में हिस्सा लेंगे। हमने सभी से वापस जाने का अनुरोध किया है। ”

उन्होंने आगे कहा, 'कोरोनावायरस के मामलों में भारी वृद्धि के कारण यह निर्णय लिया गया है। हम चाहते हैं कि हम सब सुरक्षित रहें। इससे हमें सामाजिक दूर के दिशानिर्देशों का पालन करने में मदद मिलेगी। ”, रवींद्र पुरी महाराज ने आगे स्पष्ट किया, "हम बिना किसी दबाव के हैं।" यह भी कोई व्यक्तिगत मामला नहीं है। यह एक समाज का मुद्दा है, बड़े पैमाने पर लोगों के लिए। हमने लोगों की भलाई के लिए फैसला लिया है। ” उन्होंने हालांकि जोर देकर कहा कि पंचायती निरंजनी अखाडा से जुड़े लगभग 50 साधु 27 अप्रैल के सांप में भाग लेंगे

मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ. शम्भू झा से जब इस बारे में बात की गई तो उन्होंने बताया कि अप्रैल में कोरोना के मामलों में मार्च की तुलना में तेजी से बढ़ोतरी हुई है। 1 अप्रैल से लेकर 13 अप्रैल तक तकरीबन 2500 मामले आए हैं।मार्च में एवरेज 10 से 20 केस थे। निरंजनी अखाड़े के कुंभ समाप्ति के ऐलान के बाद उत्तराखंड के मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने कोरोना के मसले पर शुक्रवार को हाईलेवल मीटिंग बुलाई है। माना जा रहा है कि इस मीटिंग में कुंभ मेला को लेकर कोई बड़ा फैसला लिया जा सकता है।