अगर इरादा मजबूत हो तो कुछ भी असंभव नहीं

अगर इरादा मजबूत हो तो कुछ भी असंभव नहीं

नई दिल्ली। यदि मन कुछ करने की इच्छशकित् हो तो कुछ भी असंभव नहीं है। बस मजबूत इरादा आैर बुलंद हौसला की जरूरत होती है। मंजिल खुद-ब-खुद मिल जाती है। एेसे एक प्रतीभा सामने आई है। जिन्होंने छोटी से उम्र में कुछ अलग करके दिखा दी है। यह बालिका  16 वर्षीय आदी स्वरूप एक ही समय में दोनों हाथों से लिख सकता है। उनका कहना है कि मैं अंग्रेजी में लिख सकती हूं, उसी समय कन्नड़ में भी लिख सकती हूं। इसके अलावा उन्होंने अपने टैलेंट के बारे में बात करते हुए मिमिक्री और सिंगिंग का भी शौक बताया। वहीं, उनकी मां ने बताया कि आदी को अभ्यास ने और बेहतर बनाया है। वह दोनों हाथों से एक मिनट में 45 शब्द लिख सकती है।