breaking news New

उपचुनाव- भवानीपुर सहित 3 सीटों पर उपचुनाव में तैनात होंगे 15 कंपनियां, 30 सितंबर को होगा मतदान

उपचुनाव- भवानीपुर सहित 3 सीटों पर उपचुनाव में तैनात होंगे 15 कंपनियां, 30 सितंबर को होगा मतदान

नई दिल्ली। चुनाव आयोग (Election Commission) ने भवानीपुर (Bhawanipur) केंद्र सहित समशेरगंज और जंगीपुर में 30 सितंबर को मतदान के दौरान केंद्रीय बलों की 15 कंपनियां की तैनात करने की ऐलान किया है. केंद्रीय गृह मंत्रालय के मुताबिक राज्य में जो 15 कंपनियां आ रही हैं, उनमें सीआरपीएफ (CRPF) की 8 कंपनियां, बीएसएफ (BSF) की 4 कंपनियां, एसएसबी (SSB) की 2 कंपनियां और सीआईएसएफ (CISF)और आईटीबीपी (ITBP) की 1 कंपनियां शामिल हैं.

बता दें कि राज्य के तीन केंद्रों पर होने वाले भवानीपुर उपचुनाव पर सभी की निगाहें टिकी हुई हैं. इस केंद्र में तृणमूल उम्मीदवार सीएम ममता बनर्जी हैं. उनके खिलाफ बीजेपी उम्मीदवार प्रियंका टिबरेवाल हैं. सीपीएम के उम्मीदवार श्रीजीब विश्वास हैं. संयोग से तीनों ही पेशा से वकील हैं. इस चुनाव को लेकर पूरे देश की निगाहें टिकी हुई हैं. सीएम बने रहने के लिए ममता बनर्जी को निर्वाचित होना जरूरी है, अन्यथा उनकी सीएम की कुर्सी नहीं बचेगी, क्योंकि नंदीग्राम में वह पराजित हो गई थीं.

बीजेपी ने केंद्रीय बलों की तैनाती की मांग की
विधानसभा चुनाव से ही बीजेपी लगातार हिंसा का आरोप लगा रही है. विधानसभा चुनाव के बाद भी पश्चिम बंगाल में चुनाव के बाद हिंसा के आरोप लगे हैं और इस मामले को लेकर हाईकोर्ट के आदेश के बाद सीबीआई जांच हो रही है. सीबीआई ने हिंसा से संबंधित लगभग तीन दर्जन मामले दायर किए हैं और कई मामलों में चार्जशीट भी दाखिल की है. सोमवार को ही बीजेपी का एक प्रतिनिधिमंडल राज्य के मुख्य चुनाव अधिकारी से मुलाकात कर चुनाव के दौरान कड़ी सुरक्षा की मांग करते हुए केंद्रीय बल की तैनाती की मांग की थी.

भवानीपुर में ममता बनर्जी पर टिकी हैं सभी की निगाहें
भवानीपुर विधानसभा सीट से सीएम ममता बनर्जी सहित अन्य तीनों उम्मीदवारों ने नामांकन दाखिल कर दिया है. बता दें कि तृणमूल उम्मीदवार शोभनदेव चट्टोपाध्याय ने भवानीपुर में पिछले विधानसभा चुनाव में 26,619 के अंतर से जीत हासिल की थी. बाद में शोभनदेव चट्टोपाध्याय ने इस केंद्र से इस्तीफा दे दिया था. उस कारण यह सीट रिक्त हुई थी. दूसरी ओर, बीजेपी उम्मीदवार प्रियंका टिबरेवाल ने कलकत्ता हाई कोर्ट और सुप्रीम कोर्ट में प्रैक्टिस की है. वह अगस्त 2014 में बीजेपी में शामिल हुई थी. साल 2015 के कोलकाता नगरपालिका चुनाव में वह वार्ड नंबर 47 में उम्मीदवार बनी थीं, हालांकि वह पराजित हो गई थीं. उन्होंने साल 2021 के विधानसभा चुनाव में इंटाली सीट से चुनाव लड़ी थी, लेकिन वहां भी हार गई थी.