breaking news New

टुल्लू पम्पों से पानी खींचने वालों पर रायपुर निगम करेगा एफआईआर

टुल्लू पम्पों से पानी खींचने वालों पर रायपुर निगम करेगा एफआईआर

रायपुररायपुर नगर निगम के आयुक्त प्रभात मलिक ने रविवार को शहर में सुचारू पेयजल सप्लाई को लेकर अधिकारियों की बैठक लेकर आवश्यक निर्देश दिए। इसमें उन्होंने टुल्लू पम्पों से पानी खींचने पर पम्प जप्ती के साथ ही एफआईआर कराने के निर्देश दिए। साथ ही जल विभाग से जुड़े इंजीनियरों को भी उन्होंने चेतावनी दी कि लापरवाही बतरने पर उनके खिलाफ भी कार्यवाही की जाएगी।

भाठागांव स्थित फिल्टर प्लांट भवन में करीब 4 घण्टे तक चली इस बैठक में अपर आयुक्त सुनील चंद्रवंशी, जल विभाग के मुख्य अभियंता आर के चौबे, अमृत मिशन के कार्यपालन अभियंता राकेश गुप्ता, जल विभाग के कार्यपालन अभियंता बद्री चंद्राकर, सहायक अभियंता पदमाकर श्रीवास और सभी 10 जोनों के जल विभाग के अधिकारी शामिल थे। बैठक में निगम आयुक्त  मलिक ने कहा कि एक व्यक्ति को हर दिन 135 लीटर जल की आवश्यता होती है।

उस लिहाज से शहर में भरपूर मात्रा में पेयजल सप्लाई की जा रही है। यदि किसी क्षेत्र के नलों में पानी की धार कम आ रही है तो उसकी वजह टुल्लू पम्पों से पानी की चोरी करना भी हो सकता है। इस पर उन्होंने जांच कर पानी चोरों के खिलाफ कार्यवाई करते हुए टुल्लू पम्प जप्त करने और थाने में एफआईआर कराने के भी निर्देश दिए।

साथ ही उन्होंने कहा कि जरूरत पडऩे पर उस क्षेत्र में पानी सप्लाई होने के दौरान बिजली बंद करवाने के लिए भी कहा। उन्होंने कहा कि जिन क्षेत्रों में पानी की धार कम होने की शिकायत मिलने पर मौके पर जाकर निराकरण करने के लिए भी कहा। उन्होंने कहा कि उन क्षेत्रों में वाल की जांच या बूस्टर पम्प लगाकर शिकायत दूर किया जा सकता है।

साथ ही कहा कि आवश्यकता पडऩे पर बोर लगाने का कार्य भी किया जाए। उन्होंने नागरिकों को मौका देते हुए कहा कि जिन्होंने अवैध नल कनेक्शन ले रखा है वे सम्पत्ति कर में स्व विवरणी भरकर अपने नलों को वैध करा सकते हैं। 

बैठक के दौरान उन्होंने जल प्रदाय से जुड़े अधिकारियों की कार्यशैली को लेकर भी सवाल किए। उन्होंने कहा कि लापरवाही किये जाने पर सम्बंधित इंजीनियरों के खिलाफ भी कड़ी कार्यवाई की चेतावनी दी।

उन्होंने कहा कि सुबह पानी सप्लाई के समय सभी जोनों के जल विभाग के सहायक अभियंता तथा उप अभियंता अपने अपने क्षेत्रों में घूम घूमकर जायजा लें तथा कमी पाए जाने पर तत्काल निराकरण करें।