breaking news New

कांग्रेस शासन में तस्करों व अपराधियों का गढ़ बन गया है छत्तीसगढ़-केदार कश्यप

कांग्रेस शासन में तस्करों व अपराधियों का गढ़ बन गया है छत्तीसगढ़-केदार कश्यप


जगदलपुर। भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता व पूर्व मंत्री केदार कश्यप ने कांग्रेस सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि कांग्रेस के तीन साल के शासन में शांति का टापू कहा जाने वाला छत्तीसगढ़ तस्करों व अपराधियों का गढ़ बन गया है। प्रदेश में कानून व्यवस्था की स्थिति बेहद चिंताजनक है। कांग्रेस समर्थित-संरक्षित तस्करों और अपराधियों का छत्तीसगढ़ में बोलबाला हो गया है। अनेक जगह कांग्रेस के नेता गण सीधे तौर पर गांजा शराब समेत अन्य तस्करी में जुड़े हैं और शेष जगह उनके संरक्षण में यह अवैध कारोबार चलाया जा रहा है। जिसके खिलाफ आवाज उठाने पर कई जगहों में भाजपा जनप्रतिनिधियों के साथ भी बर्बरता की गई है। कांग्रेस संरक्षित तस्करी का ही परिणाम पत्थलगाँव में दुर्गा विसर्जन की शोभा यात्रा पर गाँजा तस्करों द्वारा गाडी़ चढा़ कर सरेआम आदिवासी श्रद्धालुओं को कुचल कर मार देने की दुखःद घटना है। कांग्रेस इस घटना के लिये सीधे तौर पर जि़म्मेदार है।

आज भाजपा जिला कार्यालय में पत्रवार्ता को संबोधित करते हुए श्री कश्यप ने कहा कि प्रदेश में ऐसी ऐसी घटनाएं हो रही है, जिसकी कल्पना छत्तीसगढ़ वासी नहीं कर सकते थे। प्रदेश के सत्ता समर्थित लोगों द्वारा प्रायोजित दंगे में कवर्धा जैसे संत कबीर के नाम समर्पित शहर में बर्बरता की गई। समूचा छत्तीसगढ़ ऐसी घटनाओं से आक्रोशित आंदोलित और शर्मसार है।

संवेदनहीन मुख्यमंत्री भूपेश बघेल प्रदेश में इन दुर्भाग्यपूर्ण घटनाओं के बीच अन्य राज्यों में घूम रहे है,लखीमपुरी खीरी की नौटंकी में संसाधन लुटा रहे है।प्रदेश के मुख्यमंत्री के ऐसे उपेक्षापूर्ण व्यवहार की जितनी निंदा की जाय,कम है।

भाजपा प्रदेश प्रवक्ता केदार कश्यप ने कहा कि सबसे आपत्तिजनक इन मामलों में कांग्रेस नेताओं के उलजुलूल बयान है जबकि पिछले ढाई वर्षों के दौरान 1200 से अधिक मामले में करीब 61 करोड़ से अधिक रुपयों का 50 हजा़र किलो गाँजा प्रदेश में जब्ती हुआ है।इसीतरह अवैध शराब व नशीली दवाओं के 34 हजा़र 335 प्रकरण केवल तीन वर्ष में दर्ज हुए है। मगर तस्करों के खिलाफ विशेष अभियान नहीं चलाया गया। नेशनल क्राइम ब्यूरों के आंकडो़ं के अनुसार छत्तीसगढ़ अपराधियों का गढ़ हो गया है। 2020 के आंकडों में छत्तीसगढ़ आज किशोरों द्वारा किये अपराध व पुलिस कर्मियों की हत्या में पहले स्थान पर है। आदिवासियों के नाबालिक बच्चों के बलात्कार के मामले में, बुजुर्गों के खिलाफ अपराध आदि में दूसरे स्थान पर आ गया है।

कश्यप ने कहा कि यह आंकड़े भयावह छत्तीसगढ़ की तस्वीर बता रहे हैं। प्रदेश में कानून व्यवस्था नाम की कोई चीज नहीं रह गई है, हर व्यक्ति यहां असुरक्षित है। इन बिगडे़ हालात में प्रदेश के मुखिया अपने राज्य की चिंता छोड़ अपनी कुर्सी बचाने की जुगत में कांग्रेस के आलानेताओं को खुश करने में लगे हुए है।यह बडी़ दुर्भाग्यपूर्ण स्थिति है।

पूर्व मंत्री केदार कश्यप ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी मांग करती है कि पत्थलगांव व कवर्धा मामले की निष्पक्ष जांच हो, मृतकों को एक करोड़ और घायलों को 50 लाख की सहायता राशि दी जाए,सिलगेर समेत पुलिसिया एवं अन्य हत्या के हर मामलों में,किसान-मजदूरों आदि की आत्महत्या के सभी प्रकरणों में लखीमपुर की तरह तत्काल सहायता राशि प्रदान की जाए साथ ही तस्करों के खिलाफ विशेष अभियान चलाने के लिए एसआईटी, एसटीएफ का गठन हो।

आज पत्रकार वार्ता के दौरान पूर्व सांसद दिनेश कश्यप,भाजपा प्रदेश महामंत्री किरणदेव,जिलाअध्यक्ष रुपसिंह मंडावी,पूर्व विधायक संतोष बाफना,श्रीनिवास राव मद्दी,बैदूराम कश्यप,विद्याशरण तिवारी,लच्छूराम कश्यप,योगेन्द्र पांडे,श्रीनिवास मिश्रा,रामाश्रय सिंह,वेदप्रकाश पांडे,रजनीश पाणिग्रही,नरसिंह राव,अविनाश श्रीवास्तव,बाबुल नाग,सुरेश गुप्ता,अतुल सिम्हा,रौशन झा,आनंद झा आदि मौजूद थे।