breaking news New

धारदार हथियार से हमला कर हत्या, आरोपी को आजीवन कारावास

धारदार हथियार से हमला कर हत्या, आरोपी को आजीवन कारावास

सक्ती- हत्या के आरोपी को प्रथम अपर सत्र न्यायाधीष गीता नेवारे ने आजीवन सश्रम कारावास की सजा सुनाई प्रार्थी नारायण के द्वारा बाराद्वार थाने में पुलिस को सूचना दी की मेरे होटल के पास जगदीश  सहिस के द्वारा नेहरू श्रीवास से वाद विवाद करते हुये धारदार हथियार से हमला कर हत्या कर दी है । 

 सूचना प्राप्त होते ही बाराद्वार पुलिस मौके पर पहुंचकर पतासाजी कर अपराध पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया विवेचना उपरांत चालान प्रस्तुत करने पर आगे की कार्यवाही की गई जिसमें अभियोजन के अनुसार दिनांक 30.11.2017 की षाम बस्ती बाराद्वार में साक्षी कोयल पटेल के बड़ा भजीया के दुकान पर बड़ा - भजीया खाने के लिये नेहरू श्रीवास आया था तभी अभियुक्त जगदीष सहिस के द्वारा घटना समय लगभग 7.30 बजे उसकी दुकान में मृतक नेहरू श्रीवास एवं गवाह प्रार्थी नारायण ने आकर बडा भजीया की मांग किया। 

 उसी समय अभियुक्त जगदीष सहीस अपने दो साथियों के साथ नास्ता करने आया था वहां अभियुक्त जगदीष सहिस के द्वारा कहा गया कि मैं तलवा का कोटवार हूं और मेरा कुछ नही बिगाड सकता मृतक ने उससे कहा कि दादागिरी क्यों कर रहे हो वह स्वयं ही गांव का नाई ठाकुर है इसी बात लेकर मृतक एवं जगदीष सहिस के बीच विवाद बढ गया उसके पश्चात रमाकांत एवं ओमप्रकाष के साथ अभियुक्त मोटर सायकल से ग्राम तलवा जाने को निकला उसी समय अभियुक्त मोटर सायकल से कूद गया और कोयल की दुकान में आकर मृतक के माथे पर धारदार चाकू से वार किया जिससे उसकी हालत गम्भीर हो गई और उसे ईलाज हेतु सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र सक्ती लाया गया ईलाज के दौरान नेहरू श्रीवास की मृत्यु हो गई । 

 प्रार्थी नारायण की रिपोर्ट पर अभियुक्त के विरूद्ध भा.द.सं. की धारा 294, 506बी, 302 के तहत अपराध पंजीबद्ध कर थाना बाराद्वार द्वारा न्यायालय के समक्ष विवेचना उपरांत अभियोग पत्र प्रस्तुत किया गया । न्यायालय द्वारा समस्त अभियोजन साक्षीयों के कथन उपरांत  प्रथम अपर सत्र न्यायाधीष गीता नेवारे ने अपने निर्णय दिनांक 14.9.2021 को आरोपी जगदीष सहिस को दोषी  पाते हुये भा.द.सं. की धारा 302 के अपराध में आजीवन सश्रम कारावास की सजा सुनाते हुये एवं 1000 रू. के अर्थदंड से दंडित किया । इस प्रकरण की अभियोजन पक्ष की ओर से प्रकरण की पैरवी अपर लोक अभियोजक दुर्गा प्रसाद साहू के द्वारा किया गया ।