प्रोफेसर की खड़े खड़े मौत, कोरोना मरीज को नही किया भर्ती, अपोलो अस्पताल प्रबंधन पर बड़ी लापरवाही का आरोप

प्रोफेसर की खड़े खड़े मौत, कोरोना मरीज को नही किया भर्ती, अपोलो अस्पताल प्रबंधन पर बड़ी लापरवाही का आरोप

ग्वालियर. प्रदेश में आज एक और अस्पताल की लापरवाही सामने आयी है, मामला पड़ाव थाना क्षेत्र के अपोलो हॉस्पिटल कहा है, जहां अस्पताल के बाहर खड़े खड़े ऑटो रिक्शा में ही एक प्रोफेसर की मौत हो गई। बताया जा रहा है कि प्रोफेसर एमआईटीएस में पदस्थ था।

घटना के बाद गुस्साए परिजनों के अस्पताल के बाहर जमकर हंगामा किया, परिजनों का आरोप है कि अस्पताल प्रबंधन ने इस मामले में बड़ी लापरवाही की है। उनका कहना है कि वे लोग डेढ़ घंटे बाहर खड़े खड़े एडमिट करने के लिए इंतजार करते रहे। लेकिन अस्पताल ने उनकी नहीं सुनी।

परिजनों का कहना है कि अस्पताल की फीस देने के बावजूद भी प्रोफेसर का इलाज नहीं हो सका। घटना के बाद पुलिस मौके पर पहुंची है और मर्ग कायम कर की जांच शुरू कर दी है। लेकिन इस घटना ने अस्पताल प्रबंधन की बड़ी लापरवाही उजागर की है।