breaking news New

चीन के साथ समझौता खत्म होने की खबर आधारहीन: भारतीय सेना

चीन के साथ समझौता खत्म होने की खबर आधारहीन: भारतीय सेना


नई दिल्ली। पूर्वी लद्दाख में भारत और चीन की सेना के बीच किसी तरह की ताजा झड़प से इनकार करते हुए भारतीय सेना ने आज उन दावों को सिरे से खारिज कर दिया जिसमें कहा जा रहा था कि दोनों देशों के बीच हुआ समझौता भी रद हो गया है। साथ ही सेना ने यह भी कहा कि सीमा पर चीन की गतिविधियों पर नजर रखी जा रही है। 


भारत-चीन सीमा पर दोनों देशों की सेना इन दिनों शांत है किसी की ओर से पूर्वी लद्दाख पर हावी होने का प्रयास नहीं किया जा रहा है। भारतीय सेना ने आज यह जानकारी दी। फरवरी में दोनों देशों की सेना वहां से हटी थी। साथ ही वहां तनाव के मुद्दों को सुलझाने के लिए दोनों पक्षों के बीच वार्ता जारी है। सेना ने बताया कि क्षेत्र में पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (PLA) की गतिविधियों की मॉनिटरिंग की जा रही है। दरअसल मीडिया की ओर से यह खबर आ रही है कि चीनी सेना ने फिर से पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) को पार कर लिया है और कम से कम एक बार दोनों पक्षों के बीच झड़प भी हो चुकी है।


इसे खारिज करते हुए आज सेना ने बयान जारी किया और बताया, 'इस साल फरवरी में हुए समझौते के बाद से इलाकों को हथियाने की एक बार भी कोशिश नहीं की गर्ह है जहां से सैनिकों की वापसी की गई। जैसा कि आर्टिकल में लिखा गया है उस तरह का कुछ नहीं है गलवन या किसी और हिस्से में कोई झड़प नहीं हुई है।' साथ ही सेना ने यह भी कहा कि आर्टिकल में लिखा गया है कि चीन के साथ किया गया समझौता भी खत्म हो गया जो झूठ और आधारहीन है। सेना की ओर से कहा गया,'दोनों पक्षों के बीच समाधान को लेकर बातचीत जारी है और संबंधित क्षेत्रों में नियमित तौर पर पेट्रोलिंग की जा रही है। सीमा पर अब तक हालात सामान्य हैं। PLA गतिविधियों व सैनिकों के टर्नओवर को भारतीय सेना के द्वारा मॉनिटर किया जा रहा है।'


पिछले साल के मई में भारत और चीन के बीच हिंसक झड़प होने के बाद से कई जगहों पर सेना की तैनाती की गई। सैन्य व राजनयिक वार्ता के बाद फरवरी में दोनों देशों ने पैंगोंग झील के उत्तर व दक्षिणी हिस्से से सैनिकों और हथियारों को हटा लिया था।