breaking news New

काबिज कृषि भूमि पर नगर पंचायत द्वारा हस्तक्षेप,ग्रामीणों में नाराजगी

काबिज कृषि भूमि पर नगर पंचायत द्वारा हस्तक्षेप,ग्रामीणों में नाराजगी

मामला नारायणपुर पंचायत का,एसडीएम को सौपा ज्ञापन

भानुप्रतापपुर। गेंद सिंह दुग्गा द्वारा काबिज कृषि भूमि पर नगर पंचायत भानुप्रतापपुर के द्वारा हस्तक्षेप किये जाने को लेकर आज सोमवार को पीड़ित परिवार सहित भारी संख्या में नारायणपुर पंचायत के ग्रामीण एसडीएम कार्यालय पहुचकर ज्ञापन सौपते हुए रोक लगाने की मांग की है।

पीड़ित पतीराम दुग्गा ने जानकारी देते हुए बताया कि कांकेर जिला 5 वी अनुसूचित क्षेत्र के अंतर्गत आता है एवं वनाधिकार अधिनियम के तहत 13 दिसम्बर 2005 के पूर्व काबिज किसानों को  भूमि पर वन भूमि पर हक दिये जाने वनाधिकार अधिनियम में लेख है बावजूद नगर पंचायत उक्त आदिवासी किसान को बेदखल करने पर तुली है।


गेंद सिंह दुग्गा जाति गोड निवासी ग्राम नारायणपुर के पूर्वज द्वारा उक्त भानुप्रतापपुर खसरा नम्बर 170 पर तीन पीढ़ी से काबिज कास्त कृषि कार्य कर रहे हैं। नगर पंचायत द्वारा हमारे कृषि कार्य पर बाधा उत्पन्न किया जा रहा है, जिससे मै मानसिक रूप से परेशान हो गया हूं। यदि मुझे कुछ हो जाता है,इसकी सम्मपूर्ण जवाबदेही नगर पंचायत की होगी।

ग्रामीण भेनु दुग्गा ने बताया कि वर्षो पूर्व काबिज कृषि भूमि पर नगर पंचायत द्वारा बेवजह कब्जा कर गौठान निर्माण करने हस्तक्षेप किया जाना गलत है। पुराने नक्शा में उक्त भूमि ग्राम पंचायत नारायणपुर के अंतर्गत आता है।  शासन-प्रशासन को आवेदन के माध्यम से रोक लगाने की मांग की गई हैं। 


ज्ञापन सौपने वाले ग्रामीण बुधनु पटेल, उषा किरन, लक्ष्मी मंडावी, सरिता पटेल,सुकलाल, युवराज दुग्गा, भोला नाथ दुग्गा, सुकलाल उवके,हरिलाल पटेल,कालविन, राकेश, भग्गू राम, गंगा बाई, बासन, कृष्णा बाई, मान बाई, सरस्वती मंडावी, बतिया बाई, आस बाई, बागों बाई आदि उपस्थित रहे।