breaking news New

नवदृष्टि फाउंडेशन व छत्तीसगढ़ ब्लड डोनर फाउंडेशन के सयुंक्त तत्वाधान में डॉ मनोज लांजेवार ने फेसबुक लाइव पर रक्तदान से जुड़ी जानकारी दी

नवदृष्टि फाउंडेशन व छत्तीसगढ़ ब्लड डोनर फाउंडेशन के सयुंक्त तत्वाधान में डॉ  मनोज लांजेवार ने फेसबुक लाइव पर रक्तदान से जुड़ी जानकारी दी


रायपुर, 17 मई। नवदृष्टि फाउंडेशन व छत्तीसगढ़ ब्लड डोनर फाउंडेशन के सयुंक्त तत्वाधान में डॉ  मनोज लांजेवार ने फेसबुक लाइव पर लोगों से जुड़े व् रक्तदान से सम्बन्धी उपयोगी जानकारी दी लगभग दो घंटे चले कार्यक्रम का पूरे प्रदेश से  6000 से अधिक लोगों ने लाभ लिया डॉ  लांजेवार ने बहुत ही सरल भाषा में लोगों के उत्तर दिए व रक्तदान को सबसे उत्तम योग बताया रक्तदान को डॉ  लांजेवार ने रक्तदान को आध्यात्म से जोड़ कर भी भगवान बुद्ध ,नानक, महावीर के उदहारण  दे लोगों को रक्तदान हेतु प्रेरित किया व् कहा स्वस्थ तन में ही स्वस्थ मन का वास होता है।

डॉ लांजेवार ने नवदृष्टि फाउंडेशन व् छत्तीसगढ़ ब्लड डोनर फाउंडेशन को रक्तदान हेतु लोगों को जागरूक करने साधुवाद दिया व्  अगले जन्म में  भी ब्लड बैंक के माध्यम से लोगों की सेवा करने की इच्छा जाहिर की।


कार्यक्रम में अनिल बल्लेवार,राज आढ़तिया,कुलवंत भाटिया,योगेश राठी ,विवेक साहू, कमलेश राजा व् चैंबर ऑफ़ कॉमर्स के अध्यक्ष रजनीश जायसवाल ने अपने  विचार रखे।

 डॉ मनोज लांजेवार ने लोगों के प्रश्नो के जो उत्तर दिए मुख्या  प्रकार हैं। 

जिसकी उम्र 18 वर्ष व् वजन 45 किलो हो वह रक्तदान कर सकता है ,पुरुष हर तीन माह व् स्त्री हर चार माह में रक्तदान कर सकता है,रक्तदान करने से वयक्ति को मानसिक शांति मिलती है ,रक्तदान करने से ह्रदय संबंधी रोग,बी पि, शुगर व् अवसाद एवं अन्य बहुत सी बिमारियों की संभावना कम होती है, नई गाइड लाइन के अनुसार अब विदेश से आया कोई भी वयक्ति तीन साल भारत में रक्तदान नहीं कर सकता।

कौन रक्तदान नहीं कर सकता- ऐसा वयक्ति जो इंसुलिन लेता हो या खून पतला करने की दवा लेता हो,माहवारी के दौरान महिला व् स्तनपान करवा रही महिला या जिसे कोई भी संक्रामक बीमारी हो वह रक्तदान नहीं कर सकता इसके आलावा डॉ  लांजेवार ने प्लाज़्मा व् प्लेटरेट ,सिकलिंग व् अन्य विषयों पर विस्तृत जानकारी दी।

डॉ लांजेवार ने ब्लड ग्रुप कितने प्रकार के होते हैं व् कौन सा ग्रुप किसे दिया जाता है बताया व  जानकारी दी की सबसे रेयर ग्रुप बॉम्बे ग्रुप के लोगों को अब छत्तीसगढ़ में भी रक्तदान किया गया है,ब्लड बैंक रक्त का कोई भी पैसा नहीं वसूलते केवल जाँच व् प्रोसेसिंग फीस ली जाती है।

डॉ लांजेवार ने कुछ सुझाव भी दिए - लोगों को अपने आई डी प्रूफ पर अपना ब्लड ग्रुप लिखना चाहिए,स्वीटजरलेंड में लोग सबसे अधिक रक्तदान करते हैं, छत्तीसगढ़ में प्लाज़्मा बैंक बनाना चाहिए,बच्चों को नैतिक शिक्षा देनी चाहिए,कोरोना से बचाव हेतु घर के बाहर हाथ धोएं,मास्क जरूर लगाएं, बिना काम घर से न निकलना भी देश भक्ति है, वेक्सीन जरूर लें, साफ़ सफाई पर विशेष ध्यान दें।

योगेश राठी ने जानकारी दी यह पूरा वीडियो नवदृष्टि फाउंडेशन के फेसबुक पेज पर देखा जा सकता है।