breaking news New

ग्राम पंचायत ठनगन विकास से कोसों दूर , नवीन पंचायत भवन भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ी

ग्राम पंचायत ठनगन विकास से कोसों दूर , नवीन पंचायत भवन भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ी

सक्ती डभरा।  जिले के चंद्रपुर विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत जनपद पंचायत डभरा क्षेत्र के ग्राम पंचायत ठनगन विकास से कोसों दूर है ग्राम ठनगन में बुनियादी सुविधाओं का अभाव है जब से ग्राम ठनगन को ग्राम पंचायत का दर्जा मिला है तब से भवन की समस्याओं से जूझ रहा है  शासन द्वारा ग्राम पंचायत ठनगन में वर्ष 2011 व 2012 में  राष्ट्रीय ग्राम स्वराज योजना के तहत नवीन पंचायत भवन निर्माण के लिए 10 लाख लागत से नवीन पंचायत भवन के लिए राशि स्वीकृति दी गई थी परंतु पूर्व सरपंच के कार्यकाल में नवीन पंचायत भवन का निर्माण कार्य छत ढलाई कर छोड़ दिया गया है  भवन खंडहर में तब्दील हो रहा है  वही दरवाजा खिड़की भी टूट गया   है नवीन पंचायत भवन का निर्माण कार्य अधूरा पड़ा हुआ है जो आज  9 बरसों के बाद भी निर्माण कार्य पूर्ण नहीं किया गया जबकि पूर्व सरपंच द्वारा लगभग ₹8 लाख राशि आहरण कर चुका है.

9 वर्षों के बाद भी  आज तक पंचायत भवन का निर्माण कार्य पूरा नहीं किया जा सका अब भवन जर्जर हो चुका है पंचायत भवन नहीं होने के कारण ग्राम पंचायत के  निर्वाचित पंच परमेश्वर  सरपंच ग्राम पंचायत की बैठक ग्रामीणों के बरामदे  में करते हैं  शासन की योजनाओं के क्रियान्वयन के लिए  ग्राम सभा की बैठक टेंड तम्बू लगाकर आयोजित होती है !               

शासन द्वारा नवीन पंचायत भवन के लिए राशि जारी करने के बाद भी आज तक पूर्व सरपंच द्वारा राशि 8 लाख आहरण करने के बाद भी पंचायत भवन का निर्माण कार्य अधूरा छोड़ दिया है भवन के लेंटर जर्जर हो गया है बारिश में पानी टपकता है छज्जा  व फर्श  दिवालो की पलस्तर छबाई नही किया गया है 9 साल पूर्व लगे खिड़की व दरवाजे टूट फुट रहे है जिस कारण वर्तमान में पंचायत  भवन नहीं होने से पंच परमेश्वर की बैठक  बरामदे में होती है  पंचायतों में सरपंच व पंचो को बैठकों में भारी परेशानी होती है वही पंचायत की सरकारी कागजात को भवन नहीं होने के कारण दूसरे जगह पर रखा जाता है  ग्राम पंचायत भवन नहीं होने के कारण ग्रामीणों को जन्म मृत्यु प्रमाण पत्र पेंशन राशन कार्ड सहित कई कार्यो के लिए परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है !                             

  ग्रामीण क्या कहते है:- ग्रामीण होसराम एवं शंकर साहू  ने कहा कि ग्राम पंचायत भवन पूरा जर्जर हो चुका है बारिश में पानी टपकता है भवन अधूरा होने के कारण ग्राम पंचायत की बैठक में गांव के बरामदे में  होती है ग्राम सचिवालय में आवेदन देने के लिए ग्रामीणों को भारी परेशानी होता है  जबकि कई बार जनपद पंचायत एवं जिला पंचायत के अधिकारियों को अवगत करा कर ग्राम पंचायत में नए पंचायत भवन स्वीकृति करने की मांग कर चुके हैं इसके बाद भी पंच परमेश्वर के लिए आज तक भवन उपलब्ध नहीं हो पाया है                                                           जनप्रतिनिधि क्या कहते हैं:- इस बारे में उपसरपंच संतोष बरेठ ने  बताया कि पंचायत भवन का निर्माण कार्य 9 वर्षों से अधूरा पड़ा हुआ है जिस कारण ग्राम पंचायतों की कामकाज प्रभावित हो रहा है ग्राम सभा एवं ग्राम पंचायत की बैठक  गांव के ग्रामीणों के बरामदे एवं टेण्ट तम्बू लगाकर बैठक करते हैं जिससे जनप्रतिनिधियों एवं ग्रामीणों को भारी परेशानी होती है