breaking news New

कोरोना प्रोटोकॉल नियमों का पालन करते हुए महिला बाल विकास परिवार राजेश्वरी का कराएगा अंतिम संस्कार

कोरोना प्रोटोकॉल नियमों का पालन करते हुए महिला बाल विकास परिवार राजेश्वरी का कराएगा अंतिम संस्कार


नारी निकेतन में रहने वाली राजेश्वरी का लंबे समय से चल रहा था इलाज

दंतेवाड़ा, 16 मई। जिले में महिला बाल विकास द्वार अनाथ बेसहारा महिलाओं के लिए नारी निकेतन बनाया गया है जिसमें वर्तमान में अभी 12 महिलाएं अपना जीवन यापन कर रही है। 

जिनकी देखभाल के लिए महिला बाल विकास द्वारा एक अलग शाखा बनाई गई है जिनकी रे देखरेख में इन महिलाओं का भरण पोषण किया जाता है और समय-समय पर इन महिलाओं का मेडिकल चेकअप भी कराया जाता है आवश्यकता पड़ने पर उन्हें जिला अस्पताल में भर्ती पर कराया जाता है जिसका पूरा खर्च जिला प्रशासन द्वारा किया जाता है। 

 निकेतन में रहने वाली राजेश्वरी का लंबे समय से शुगर कैंसर का इलाज चल रहा था कल अचानक राजेश्वरी की तबीयत बिगड़ी जिसे तुरंत जिला अस्पताल लाया गया जिसका डॉक्टरों की टीम द्वारा प्राथमिक उपचार कर स्थिति बिगड़ती देख तुरंत डॉक्टरों ने डिमरापाल मेडिकल कॉलेज रेफर किया गया परंतु मेडिकल कॉलेज डिमरापाल पहुंचने के पहले ही उसकी मृत्यु हो गई। जिसे वापस दंतेवाड़ा जिला अस्पताल लाया गया जो उसका दाह संस्कार महिला बाल विकास परिवार द्वारा कराया जाएगा। 

महिला बाल विकास नारी निकेतन प्रभारी पुष्पा भट्ट ने बताया कि राजेश्वरी का लंबे समय से शुगर व कैंसर का इलाज चल रहा था समय-समय पर इसे हॉस्पिटल में भर्ती भी कराया जाता था परंतु कल अचानक तबीयत बिगड़ने के कारण उसे जिला अस्पताल लाया गया जहां से डॉक्टरों ने उसे तत्काल मेडिकल कॉलेज डिमरापाल  रिफर किया परंतु डिमरापाल   मेडिकल कालेज पहुंचने के पहले ही राजेश्वरी की मृत्यु हो गई। 

राजेश्वरी को नारी निकेतन में काकेर के बालिका गृह से लाया गया था इसकी फैमिली का कोई अता पता नहीं था 12 में से आप 11 महीना ही नारी निकेतन में अपना जीवन यापन कर रही है और कोरोना संक्रमण  को देखते हुए उनका मेडिकल चेकअप कराया गया है जिसमें सभी महिलाओं की कोरोना जांच रिपोर्ट नेगेटिव आई है।