breaking news New

बजट बैठक में भड़का विपक्ष नेता प्रतिपक्ष ने विरोध दर्ज कराते हुए किया बहिर्गमन

बजट बैठक में भड़का विपक्ष नेता प्रतिपक्ष ने विरोध दर्ज कराते हुए किया बहिर्गमन

धमतरी। नगर निगम का बजट बैठक सभापति अनुराग मसीह की अध्यक्षता में प्रारंभ राष्ट्रगान के साथ हुआ इसके तत्काल बाद जब सभापति ने महापौर विजय देवांगन को बजट प्रस्तुत करने हेतु आमंत्रित किया उससे पूर्व ही विपक्ष के पार्षद खूब हो हल्ला मचा कर नारेबाजी करने लगे पहले आयुक्त के ना होने पर तत्व चालू कार्य के लिए चार्ज देकर बजट जैसे महत्वपूर्ण बैठक को नजरअंदाज किए जाने की बात को लेकर धरने पर बैठ गए वही प्रश्नकाल ना रखे जाने पर पार्षदों के अधिकारों का हनन किए !

जाने की बात को लेकर खूब नारेबाजी की जिसके बाद प्रधानमंत्री आवास ,ऑडिटोरियम गोकुल नगर ,ट्रांसपोर्ट नगर ,जल आवर्धन योजना के तहत वर्तमान कोई भी कार्य ना होने पर खूब भड़ास निकाला यहां तक कि उन्होंने कहा कि आज पूरा राष्ट्र 13 अप्रैल 1919 को घटित जलियांवाला बाग के नृशंस हत्याकांड के कारण शोक मना रहा है तथा अपना विरोध विभिन्न योजनाओं को दर्शित करने वाले वस्त्र पहन कर प्रदर्शित कर रहे हैं ! 


हम यहां नियम विरुद्ध 31 मार्च तक होने वाली बजट बैठक को आज आयोजित कर रहे हैं जो राष्ट्रवाद के साथ भी खिलवाड़ है इसलिए सारे विपक्ष के पार्षद गण काले कपड़े पहन कर आए हैं फिर महापौर द्वारा प्रस्तुत किए जा रहे बजट को 2020-21 के बजट की प्रति को हूबहू उतार देने पर बजट को पढ़ने के दरमियान काफी शोर-शराबा हुआ इसी बीच पार्षद विजय मोटवानी ने प्रधानमंत्री आवास की धीमी गति पर आक्रोशित होते हुए कहा कि पहले गरीबों को छत दो, पानी तो, बिजली दो, सड़क दो,नाली दो तब बजट की बात करो वहीं पार्षद प्राची सोनी ने जोर जोर से चिल्ला कर कहा कि महिला प्रसाधन देना होगा साथ ही अधूरे बालक चौक कंपलेक्स को पूरा करने की बात कही इस दरमियान पूरे पार्षद एकजुट होकर नारेबाजी भी करने लगे महापौर द्वारा प्रस्तुत बजट के बाद नेता प्रतिपक्ष नरेंद्र रोहरा ने बिंदुव अपनी बात रखते हुए कहा कि मात्र खानापूर्ति करने के लिए आज हम सब को बुला लिया गया है !

पहले प्रश्नकाल आयोजित कर सत्ता पक्ष को पार्षदों के प्रश्नों का सामना करना था यह लोग अपनी जिम्मेदारी से भागते हैं ढाई वर्ष में एक भी बार नगरी प्रशासन मंत्री का धमतरी ना आगमन हो ना महापौर द्वारा कोई भी कार्य को संबंधित विभाग से पूरा करा कर न लाया जाना सत्ता पक्ष की अकर्मण्यता व निष्क्रियता को दर्शाता है 

रोहरा ने नियम विरुद्ध संपत्ति कर, तथा पिछले बजट के रामेश्वरम में निर्माण होने वाले गोकुल नगर, शहर के तालाबों का सौंदर्यरीकरण, गोल बाजार का पुनर्निर्माण ,स्विमिंग पूल, नवीन कॉलोनियों में विद्युतीकरण ,सर्व मांगलिक भवन का निर्माण तथा अंबेडकर चौक से विंध्यवासिनी मंदिर होते हुए सिहावा चौक तक रोड का चौड़ीकरण एवं बड़ी नहर से होते हुए भोजन तक रोड का निर्माण संबंधी बातों को उल्लेखित किया तथा कहा कि आने वाला वर्ष का वित्तीय बजट मात्र औपचारिकता रहेगी क्योंकि उसके तत्काल बाद विधानसभा चुनाव फिर लोकसभा और निगम का चुनाव आ जाएगा .

इसलिए इस बैठक को गंभीरता को पूरे निगम को लेना था जिसे महापौर सहित सत्तापक्ष ने नलिया और पार्षदों को अपनी बात रखने से वंचित किया इसी बीच सदन का माहौल फिर गर्म हो गया और शोर-शराबा होने लगा तथा पार्षदों द्वारा विधिवत कार्य न करने के कारण सत्ता पक्ष के विरुद्ध नारेबाजी करते हुए सदन का बहिर्गमन कर सेंचुरी गार्डन के पास गांधी चौक के समीप जाकर सत्तापक्ष को सद्बुद्धि देने के लिए प्रार्थना की है तत्पश्चात निगम में आकर धरना देकर जनप्रतिनिधियों को जगाने का प्रयास किए की नियम विरुद्ध कार्य नगर निगम के माध्यम से ही जनहित,निगमहित व पार्षदों की जाए।