breaking news New

हाइड्रो पावर बेस्ड पम्पिंग से गिरदालपारा के किसान होंगे लाभान्वित, 24 किसानों की 80 एकड़ भूमि होगी सिंचित

हाइड्रो पावर बेस्ड पम्पिंग से गिरदालपारा के किसान होंगे लाभान्वित, 24 किसानों की 80 एकड़ भूमि होगी सिंचित


कृष्णा नायक दोरनापाल

दोरनापाल:- नक्सल प्रभावित क्षेत्र की तश्विर बदलने के लिए नित नए प्रयास शासन-प्रसाशन द्वारा किए जा रहे हैं।जिले में किसानों के हित के लिए कलेक्टर विनीत नन्दनवार द्वारा महत्वाकांक्षी प्रोजेक्ट पर तेजी से कार्य किया जा रहा हैं । अब बिना बिजली के पानी आदिवासी किसानों के खेत तक पहुँच रहा हैं।

जिले के गिरदालपारा हाइड्रो पावर बेस्ड , पम्पिंग स्कीम जो सुकमा विकास खण्ड के ग्राम पंचायत केरलापाल के ग्राम गिरदालपारा में स्थित हैं । जिसकी जिला मुख्यालय से सुकमा से कोन्टा मार्ग में 15 कि.मी. की दूरी हैं।इस योजना की खासियत यह है कि योजना में सम्मलित टर्बाइन , जिसके मदद से पानी को पम्प करके नदी सतह से 22 मीटर ऊंचे स्थान पर पानी पहुचाना हैं , उसमें किसी भी प्रकार के ईंधन जैसे पेट्रोल , डीजल , मिट्टी तेल का उपयोग नहीं किया जाता हैं और न ही बिजली का उपयोग किया जाता हैं । केवल पानी से पम्पिंग की जाती हैं। और लगभग 2 किलोमीटर दूर एक 25×25 मीटर का एक टैंक है जिसकी गहराई 1.20 मीटर की है। जहां यह पानी स्टोर होगा और यहां से पूरे 80 एकड़ भूमि को सिंचित किया जाना है। इस तरह योजना बहुत ही किफायती हैं।

पांच चरणों मे हुआ निर्माण कार्य

 योजना के अंतर्गत 05 चरणों में कार्य कराये गये हैं। जिसमे पहले टर्बाइन के स्थापन हेतु नदी में प्लेट फार्म निर्माण, उसके पश्चात एनीकट से टर्बाइन तक पानी पहुंचाने हेतु 150 मीटर का पाईप लाईन, उसके पश्चात डिस्ट्रीब्यूशन चेम्बर निर्माण जहां पानी इकट्ठा किया गया, उसके पश्चात टर्बाइन से डिस्ट्रीब्यूशन चेम्बर तक पानी लाने हेतु डिलीवरी पाईप लाईन लगाने का कार्य एवं अंत मे खेतो तक पानी पहुंचाने हेतु वाटर कोर्स निर्माण कार्य किया गया।


इस योजना की कुल लागत 117.33 लाख रुपये हैं । वर्तमान में इस वर्ष रबी सिंचाई हेतु 80 एकड़ का लक्ष्य रखा गया हैं । खेतो को तैयार कर लिया गया हैं । फेंसिंग लगाने का कार्य प्रगति हैं । लक्षित हर खेत में पानी पंहुचाने हेतु फिल्ड चैनलों का निर्माण कार्य पूर्णता की ओर हैं । इस वर्ष इस योजना से 24 कृषक लाभान्वित होगें ।

किसानों में इस प्रोजेक्ट के प्रति उत्साह

लाभान्वित किसान परदेशी राम मड़कामी एवं संदीप मड़कामी ने बताया कि इस प्रोजेक्ट से गांव के किसानों में काफी उत्साह है। गांव के और भी किसान इस प्रोजेक्ट से जुड़ना चाहते हैं। वहीं जिले के कलेक्टर द्वारा लगातार गांव में आकर हम सभी किसानों से बातचीत कर हमारा हर सम्भव मदद करने की आश्वासन दिया है। हमारी भी 15 एकड़ जमीन इस प्रोजेक्ट के अंतर्गत आ रही है। जल्द ही हम अपनी भूमि में मूंग की खेती करेंगे।