breaking news New

मानसून सत्र के पहले विधानसभा ने विधायकों की सीमाएं बताई

मानसून सत्र के पहले विधानसभा ने विधायकों की सीमाएं बताई

एक दिन में एक विधायक को एक ही स्थगन सूचना की होगी अनुमति
भोपाल । नौ अगस्त से शुरू हो रहे विधानसभा के मानसून सत्र के पहले विधानसभा ने विधायकों को उनकी सीमाएं बताई हैं। विधायकों से कहा गया है कि एक दिन में उनकी एक ही स्थगन सूचनाएं स्वीकार की जाएंगी। ध्यानाकर्षण भी दो से ज्यादा स्वीकार नहीं किए जाएंगे। विधायक इससे ज्यादा सूचनाएं न दें। विधायकों को भेजे गए परिपत्र में कोविड-19 प्रोटोकॉल का पालन करना अनिवार्य किया गया है। बताया गया है कि मानसून सत्र के लिए स्थगन प्रस्ताव, ध्यानाकर्षण एवं शून्यकाल की सूचनाएं चार अगस्त से स्वीकार की जाएंगी। प्रथम बैठक के लिए चार से सात अगस्त तक सूचनाएं ली जाएंगी। इसके बाद अन्य दिनों के लिए स्वीकार होंगी। विधायक अपना अधिकृत व्यक्ति भेजते हैं, तो मुख्य द्वार पर टोकन लेना होगा। क्रम आने पर सचिवालय में प्रवेश मिलेगा। विधायकों से कहा गया है कि एक बैठक के लिए एक से अधिक स्थगमन प्रस्ताव नहीं लिए जाएंगे। विधायक एक साथ एक से अधिक, सूचनाएं देना चाहते हैं तो उन्हें तिथि बताना होगी कौन सी सूचना किस दिनांक के लिए हैं। इसी प्रकार की व्यवस्था ध्यानाकर्षण के लिए भी की गई है। विधानसभा अध्यक्ष गिरीश गौतम का फोकस अधिक से अधिक विधायकों के चर्चा में शामिल होने को लेकर है। प्रश्नकाल में भी ज्यादा से ज्यादा सवालों पर जवाब लिए जाने का प्रयास होगा। पिछले सत्र में नए विधायकों को मौका मिला था। इस बार भी नवाचार की संभावना है। विधानसभा सचिवालय ने स्पष्ट किया है कि सत्र के दौरान यदि किसी ध्यानाकर्षण में एक से अधिक विधायक के हस्ताक्षर होंगे तो यह माना जाएगा कि जिस विधायक ने पहले हस्ताक्षर किए हैं, यह सूचना उसी के द्वारा दी गई है। ऐसे में सभी को नियमों का ध्यान रखना होगा।