breaking news New

जिन्होंने कोरोना का मात देने के लिए अपनी जान को दांव में लगा दी...आज वही रोजगार के लिए दर-दर भटकने को मजबूर ...पढ़ें कोरोना योद्धाओं की दुखद कहानी

जिन्होंने कोरोना का मात देने के लिए अपनी जान को दांव में लगा दी...आज वही रोजगार के लिए दर-दर भटकने को मजबूर ...पढ़ें कोरोना योद्धाओं की दुखद कहानी

जांजगीर चांपा, 7 अप्रैल। प्रदेश में कोरोना का रफ्तार थमने का नाम नहीं ले रहा है प्रतिदिन हजारों की तादाद में कोरोना संक्रमित मरीज सामने आ रहे हैं राजधानी हो या प्रदेश की कोई भी जिले हर जगह कोरोना से आमजन का हाल बेहाल है बात की जाए प्रदेश की राजधानी के तो अब गंभीर मरीजों के लिए आईसीयू  में बिस्तर भी मिलना मुश्किल हो जा रहा है. यू कहे तो प्रदेश में कोरोना से हाल बेहाल है. लेकिन ऐसे बढ़ते हालात में भी जिनको कोरोना  योद्धाओं ने कोरोना को मात देने के लिए अपनी जान जोखिम में डालकर दिन-रात मरीजों की सेवा की आज वही अपने रोजगार के लिए दर-दर भटकने को मजबूर हैं.

ऐसा ही ताजा मामला जांजगीर-चांपा जिले में देखने को मिला जहां कोरोना का हाल में पदस्थ किए गए स्टाफ नर्स लैब तकनीशियन को अब बाहर का रास्ता दिखा दिया है . मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी द्वारा जारी पत्र में जिन की सेवा समाप्त हो गई है उन्हें जब तक उन्हें पुनः वृद्धि आदेश का जारी नहीं किया जाता तब तक उनसे सेवाएं नहीं ली जाए कहते हुए आदेश जारी किया गया है. जिसके बाद से नाराज स्वास्थ्य कर्मियों ने कलेक्टर जिला पंचायत सीईओ व मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी को निरंतर कार्य में रखे जाने के संदर्भ में ज्ञापन सौंपा. 


जांजगीर चाम्पा जिले वालों के साथ सौतेला व्यवहार क्यों

प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री के प्रभार वाले जिले जांजगीर-चांपा के स्वास्थ्य कर्मियों की ही सेवा वृद्धि नहीं हुई बाकी प्रदेश के सभी जिलों के स्वास्थ्य कर्मियों की सेवा वृद्धि हो चुकी है वहीं मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी का कहना है कि मात्र 21 लोग जिसमें से 17 स्टाफ नर्स 3 लैब टेक्नीशियन 1 माइक्रोबायोलॉजिस्ट  की ही सेवा वृद्धि की गई है लेकिन यहां पर जिम्मेदारों पर सवाल यह उठता है कि पूरे प्रदेश के सभी जिलों के सभी स्वास्थ्य कर्मियों की सेवा वृद्धि हुई तो जांजगीर-चांपा जिले में ही 21 लोगों की ही क्यों ?बाकी स्वास्थ्य कर्मी आखिर जाए तो जाए कहां.

जिले में बढ़ रहे हैं लगातार संक्रमित मरीजों संख्या 

आपको बता दें कि जांजगीर-चांपा जिले में लगातार संक्रमित मरीजों की संख्या में इजाफा हो रहा है और ऐसे हालात में स्वास्थ्य कर्मियों को सेवा से पृथक किया जा रहा स्वास्थ्य विभाग के कार्यशैली पर सवालिया निशान भी खड़ा हो जाता है क्या अव्यवस्थाओं के बीच में कोरोना को मात दे पाएंगे.