breaking news New

1 अगस्त से व्यापार करने देने की अनुमति मांगी छत्तीसगढ़ चेम्बर आफ कॉमर्स ने, सरकार चुप! व्यापारी बोले, 'कोरोना से नही भूख से मर जाएंगे

1 अगस्त से व्यापार करने देने की अनुमति मांगी छत्तीसगढ़ चेम्बर आफ कॉमर्स ने, सरकार चुप! व्यापारी बोले, 'कोरोना से नही भूख से मर जाएंगे

रायपुर. व्यापारियों की संस्था कैट और छत्तीसगढ़ चेम्बर आफ कॉमर्स ने राज्य सरकार को चेतावनी देते हुए कहा है कि व्यापारियों का संयम और हिम्मत अब टूट रही है. संक्रमण रोकने के उपायों पर सख्ती के साथ आर्थिक गतिविधियों को 1 अगस्त से चलाने की अनुमति देवें. हालांकि सरकार ने अभी तक इसमें कोई फैसला नही किया है.

राज्य के व्यापारियों की सबसे बड़ी संस्था छत्तीसगढ़ चेम्बर आफ कॉमर्स ने एक टिवट करते हुए सीएमओ छत्तीसगढ़, सलाकार रूचिर गर्ग, गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू सहित भाजपा नेता रमेश गांधी को टिवट किया है और कहा है कि आर्थिक गतिविधियों को 1 अगस्त से चलाने की अनुमति दी जाए. हालांकि चेम्बर आफ कॉमर्स ने पहले सिर्फ रायपुर और दुर्ग शहर में व्यापारियों को व्यापार करने की अनुमति प्रदान करने की सिफारिश की थी लेकिन जब आलोचना हुई तो आज उसने पूरे प्रदेश के हित की बात उठाते हुए टिवट कर दिया.

उधर व्यापारियों की अखिल भारतीय संस्था कैट' के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष अमर पारवानी ने कहा कि सरकार को समझना चाहिए कि व्यवसाय चलेगा तो सरकार को ही टैक्स मिलना है. कैट' ने पहले ही अभियान चलाते हुए व्यापारियों को व्यवसाय करने की अनुमति आंशिक समय के लिए देने को कहा था. हमने सुझाव दिया था कि प्रात: 8 बजे से दोपहर 12 बजे तक व्यापार करने की अनुमति दी जाए. इस दौरान व्यापारी पूरी तरह कोरोना संक्रमण से बचने के लिए दिए गए निर्देशों को पूरा कर रहे हैं.

रवि भवन व्यापारी संघ के संरक्षक अर्जुनदास वासवानी ने कहा कि संक्रमण रोकने के उपायों पर सख्ती के साथ आर्थिक गतिविधियों को 01 अगस्त से अनुमति देवें.



आइए जानें कि आम व्यवसायियों ने क्या प्रतिक्रिया दी :

लाकडाउन के चलते कहीं ऐसा न हो कि व्यापारी कोरोना से पहले आर्थिक मंदी से दम तोड़ 

सर मिडिल क्लास व्यापारी के घर मे इतने रुपये जमा नही होते है कि वो पहले 60 दिन और अब 16 दिन घर मे बैठ के खा सके. कृप्या ध्यान दें.

राखी बनाने के घरेलू उद्योग में अधिकतर महिलाएँ जुड़ी होती हैं। बेहद ही सीमित संसाधन में वह सुंदर राखियां तैयार करती हैं। इस वर्ष यदि राखियां नहीं बिकीं तो इन महिलाओं पर दुगना बोझ पड़ेगा इसलिए चेंबर की इस मांग का पूर्ण समर्थन है.

मा. मुख्यमंत्री जी, आर्थिक रूप से अति कमजोर व्यापारियों ने राखी खरीद रखी थी, व्यापारियों का संयम और हिम्मत अब टूट रही है