breaking news New

दिव्यांग प्रशिक्षण केंद्र सार्थक स्कूल में वर्ष 2000 -21 का परीक्षा परिणाम घोषित

 दिव्यांग प्रशिक्षण केंद्र सार्थक स्कूल में वर्ष 2000 -21 का परीक्षा परिणाम घोषित


धमतरी के मानसिक दिव्यांग प्रशिक्षण केंद्र सार्थक स्कूल में वर्ष 2000 -21 का परीक्षा परिणाम घोषित किया गया। डॉ रजनी नेल्सन( जिला शिक्षा अधिकारी धमतरी) लक्ष्मण राव मगर( सहायक संचालक जिला शिक्षा विभाग धमतरी) प्रीतपाल छाबड़ा (डायरेक्टर जेनेसिस कॉलेज धमतरी) गौरव लोहाना (प्रोफेसर जेनेसिस कॉलेज धमतरी) अतिथि के रुप में उपस्थित हुए।
                       सर्वप्रथम सार्थक अध्यक्ष डॉ. सरिता दोशी  ने संस्था के संचालन की जानकारी देते हुएअतिथियों से  प्रशिक्षकों का परिचय करवाया और बताया कि पूरे लॉक डाउन के दौरान  प्रशिक्षकों ने ऑनलाइन प्रशिक्षण के द्वारा बच्चों को अपने एवं स्कूल से जोड़े रखने में कड़ी मेहनत की है।  साथ ही  उन्होंने  बच्चों के  लिए प्ले ग्राउंड  एवं स्कूल  की अन्य  समस्याओं से जिला शिक्षा अधिकारी को अवगत कराया। डॉ. रजनी नेल्सन जी ने अपने आशीर्वचन में सार्थक के कार्यों की सराहना करते हुए कहा कि,' मानव सेवा ही माधव सेवा है"। सार्थक के विशेष बच्चों के लिए लघु उद्योग शुरू कर उनको आत्मनिर्भर बनाने के लिए सार्थक की पहल को आगे बढ़ाने एवं विभाग द्वारा सहयोग करने का आश्वासन दिया। इस अवसर पर उन्होंने बच्चों के लिए 'हमको मन की शक्ति देना......' गीत सुनाकर सबको अपनी  आवाज से मुग्ध कर दिया। लक्ष्मण राव मगर के  सहयोग से  भवन आबंटित  हुआ है,  जिसमें सार्थक स्कूल  संचालित हो रही हैं। उन्होंने सार्थक के विशेष बच्चों को आत्मनिर्भर बनाने के प्रयास में साथ खड़े रहने का वादा किया। प्रीतपाल छाबड़ा ने विशेष बच्चों के स्वागत गीत प्रस्तुतिकरण से भावुक होकर कहा हमें इन विशेष बच्चों से जीवन जीने की कला  सीखना चाहिए ।और गौरव लोहाना ने कहा सार्थक में आने से ही घर जाते तक कुछ ना कुछ अच्छा हो जाता है। एक पॉजिटिव वेव का संचार होता है।इस तरह उपस्थित हुए सभी अतिथियो  ने  सार्थक के प्रति अपनी भावनाएं प्रेषित की।
       कोरोनावायरस संक्रमण की वजह से केवल 10 बच्चों को पालकों  के  साथ बुलाया गया था। इस वर्ष ऑनलाइन पढ़ाई एवं गतिविधि के अनुसार बच्चों का परीक्षा परिणाम घोषित किया गया। ऑनलाइन गतिविधि में श्वेता मसीह, आकाश निर्मलकर, विकास निर्मलकर, सत्यांशु दीप ,लिकेश साहू ,एकलव्य पटेल ,विनीत बघेल ,
करण खालसा, आकाश आहूजा, देवश्री सार्वा ,मनीषा साहू इत्यादि बच्चों को उनके ऑनलाइन  परफॉर्मेंस पर अंक दिए गए। संस्था द्वारा सभी पालकों का धन्यवाद व्यक्त किया गया । प्रशिक्षकों के मार्गदर्शन से विशेष बच्चों को ऑनलाइन पढ़ाना या गतिविधि कराने में पालकों का बहुत ही बड़ा योगदान होता है, उनके सहयोग से ही उनका परीक्षा परिणाम उत्कृष्ट रहा है । सभी बच्चों को अंकसूची के साथ वॉटर बॉटल गिफ्ट के रूप में दी गई।
  डॉ रजनी नेल्सन ने  स्वरोजगार की दिशा में राखियाँ, लिफाफे और अन्य कलात्मक वस्तुओं को बनाने और उनके विक्रय से प्राप्त लाभ को  स्कूल के निर्धन परिवार के बच्चों के सहायतार्थ  उपयोग किये जाने के सार्थक के  कार्यों की सराहना की और संस्था को  पांच हज़ार रुपये की सहयोग राशि  प्रोत्साहन स्वरूप प्रदान की।

 कार्यक्रम का संचालन सचिव स्नेहा राठौड़ ने किया ।इस अवसर पर पालक गण सीमा मसीह, अन्नपूर्णा निर्मलकर, उमेश पटेल, सावित्री आहूजा, परमजीत कौर खालसा , शेकईरा लहरिया, सीमा साहू, ज्ञानीक राम सार्वा, सुभाष मलिक, प्रशिक्षक मैथिली गोड़े, मुकेश चौधरी, स्वीटी सोनी, देवीका दीवान, सुनैना गोडे उपस्थित थे।