breaking news New

स्वास्थ्य मंत्री सिंहदेव का विवादास्पद बयान, 'हमारा काम मरीजों के इलाज की व्यवस्था करना, शवों की देखभाल करना नही..केन्द्र ने खराब वेंटिलेटर नही भेजे..पर कुछ काम नही कर रहे'

स्वास्थ्य मंत्री सिंहदेव का विवादास्पद बयान, 'हमारा काम मरीजों के इलाज की व्यवस्था करना, शवों की देखभाल करना नही..केन्द्र ने खराब वेंटिलेटर नही भेजे..पर कुछ काम नही कर रहे'

जनधारा समाचार
रायपुर. देश भर में संक्रमण के नये मामलों का 80 फीसदी मामला 10 राज्यों में है. छत्तीसगढ़ भी उन दस राज्यों में शामिल है. कोरोनासंक्रमण की बढ़ती रफ्तार को एक ओर है अब जो तस्वीरें सामने आ रही हैं, वह और भी डराने वाली हैं. छत्तीसगढ़ के रायपुर में अस्पतालों में बड़ी संख्या में शव रखे हुए हैं. प्रशासन उनके अंतिम संस्कार की व्यवस्था नहीं कर पा रहा है.


राज्य के सबसे बड़े सरकारी अस्पताल डॉ भीमराव आंबेडकर अस्पताल के मुर्दाघर में बड़ी संख्या में शव रखे हुए हैं. शवों के अंतिम संस्कार के लिए रायपुर में श्मशान घाटों की संख्या बढ़ायी जा रही है. अस्पताल के मुर्दा घर के सामने बाहर में भी शव पड़े नजर आ रहे हैं. इन शवों को अंतिम संस्कार के लिए बाहर निकाला गया है. स्ट्रेचर के अलावा कुछ शवों को जमीन पर भी रखा गया है.

छत्तीसगढ़ के स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव ने इस बाबत पूछे गये सवाल के जवाब में कहा कि स्वास्थ्य विभाग की जिम्मेदारी मरीजों की देखभाल करना है शवों की नहीं. हम कोई अन्य व्यवस्था नहीं कर सकते हैं. उन्होंने कहा कि शवों को लेकर जिला प्रशासन से बात की गयी है. शवों को रखने के लिए और इंतजाम किये जा रहे हैं. शवों के अंतिम संस्कार की भी व्यवस्था की जा रही है.

सिंहदेव ने कहा कि यह एक गंभीर स्थिति है. इतनी सावधानियों के बाद भी मामलों में उछाल है. मरीजों के ठीक होने का अनुपात भी बढ़ा है. उन्होंने कहा कि अस्पतालों में उचित इलाज की व्यवस्था है. हम पूरे मामले को देख रहे हैं. उन्होंने कहा कि मैं यह नहीं कह रहा कि केंद्र ने हमारे यहां खराब वेंटिलेटर मशीनें भेजी हैं, लेकिन कुछ कुछ वेंटिलेटर अब भी काम नहीं कर रहे हैं.

बता दें कि राजधानी रायपुर के साथ साथ पड़ोसी जिले दुर्ग में स्थिति बेहद खराब है. मामला इतना खराब हो गया है कि प्रशासन को रात में भी शवों का अंतिम संस्कार किया जा रहा है, जो हिंदू धर्म में वर्जित है. छत्तीसगढ़ में इस महीनें एक तारीख से सोमवार तक 961 लोगों की मौत हो गयी है. स्वास्थ्य मंत्री का कहना है कि संक्रमण के मामले बढ़े हैं, इसलिए मौतें भी ज्यादा हो रही है.

सिंहदेव ने शवों की भीड़ पर कहा कि राजधानी के जिन लोगों को मौत हो रही है, उनके अंतिम संस्कार तुरंत कर दिये जा रहे हैं. लेकिन दूसरे जगहों के मरीजों की जब राजधानी के अस्पतालों में मौत हो जा रही है तो उनको गृह जिलों में भेजने की प्रक्रिया में थोड़ी देर हो रही है. रायपुर जिला प्रशासन ने कोरोना संक्रमित शवों के अंतिम संस्कार के लिए 18 श्मशान घाट और कब्रिस्तानों को अनुमति दी है.