breaking news New

टीकाकरण में राज्य सरकार वर्गीकरण कर भेदभाव ना करें- सागर गोलछा

टीकाकरण में राज्य सरकार वर्गीकरण कर भेदभाव ना करें- सागर गोलछा

राजनांदगांव:-भारत में कोविड-19 के बढ़ते हुए !संक्रमण ने जनता सहित सरकारों की चिंता बढ़ा दी है! इसके रोकथाम के लिए वैक्सीन को ही सही कारगार उपाय माना जा रहा है ! केंद्र की सरकार ने देश में अधिकांश लोगों को टीका लगे उसके लिए 1 मई 2021 से 18 वर्ष आयु के ऊपर सभी लोगों को टीका लगाए जाने का निर्णय लिया एवं राज्यों को आदेशित भी किया!

जिन राज्यों में कांग्रेस पार्टी की सरकार है किसी ना किसी बहाने इस योजना के क्रियान्वयन में देरी करते जा रहे हैं! छत्तीसगढ़ प्रांत में कोरोना महामारी का स्वरूप इतना विकराल हो चुका है! अस्पतालों की हालत बहुत खराब है!मरीजों को बेड नहीं मिल रहा है!ऑक्सीजन भी नहीं मिल रहा है!तथा दवाइयों की भी पर्याप्त व्यवस्था नहीं है! जिसके कारण मौत के आंकड़े दिनों-दिन बढ़ते जा रहे हैं !

पूर्व में यहां के स्वास्थ्य मंत्री द्वारा वैक्सीन की गुणवत्ता पर ही प्रश्नचिन्ह लगा दिया गया था!तथा आरंभ में आपूर्ति हुए वैक्सीन के डोज बिना उपयोग किए ही खराब हो गए थे! अभी जब 18 वर्ष के ऊपर लोगों को टीका लगाया जाना है! जिसका रजिस्ट्रेशन हो चुका है जिसमें केंद्र सरकार के द्वारा सभी लोगों को सामान्य मानकर निर्देशित किया गया है!किंतु छत्तीसगढ़ में कांग्रेस की सरकार वैक्सीनेशन टीकाकरण में भी वर्गीकरण के आधार पर टीका लगाने का निर्णय ले रही है कांग्रेस पार्टी हमेशा जाती-पाती की राजनीति करती है जिसका उदाहरण यहां की सरकार द्वारा अंत्योदय राशन कार्ड वालों को सबसे पहले वैक्सीन लगेगी ऐसा निर्णय लेकर अपनी मानसिकता को उजागर कर दिया है!

18 वर्ष के ऊपर चाहे किसी भी वर्ग का ही व्यक्ति क्यों ना हो ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन कर टीका लगवाने का केंद्र का निर्णय किसी वर्ग विशेष का नहीं है! अपितु भारतवर्ष के संपूर्ण उन युवाओं के लिए है! जिसकी उम्र 18 वर्ष पूर्ण हो चुकी है !ऐसे में यहाँ की सरकार को चाहिए कि टीकाकरण के लिए राजनीति पैतरेबाजी ना करके एवं राज्य के सभी युवाओं को सामान्य अवसर प्राप्त हो रजिस्ट्रेशन के आधार पर तत्काल पहले आओ पहले पाओ के अनुरूप टीकाकरण शीघ्र प्रारंभ कराएं!