breaking news New

धान खरीदी केंद्र में किसानों से लूट, हर बोरी पर तौल में 1 किलो ज्यादा की वसूली

धान खरीदी केंद्र में किसानों से लूट, हर बोरी पर तौल में 1 किलो ज्यादा की वसूली

नवीन दुर्गम/बीजापुर। प्रदेश में कांग्रेस पार्टी की भूपेश सरकार द्वारा गरीब किसानों से 25 सौ रुपए क्विंटल से धान खरीदी की जा रही है। सरकार की मंशा है कि किसानों को उनकी फसल का उचित दाम मिल सके और हर किसान परिवार खुशहाल जिंदगी जिए।  

लेकिन सरकार की महत्वकांक्षी योजना पर जमीनी अमला पलीता लगाता नजर आ रहा है। नीचे के अमले सरकार के पुनीत कार्य में भी सेंध मारने में कोई कसर नहीं छोड़ रहे है। हम बात कर रहे बीजापुर जिले के निमेड़ धान खरीदी केंद्र की। जहाँ किसानों को लूटे जाने का मामला प्रकाश में आया है, यहां किसानों से 1 से 2 किलो धान अधिक लिया जा रहा है और किसान भी अधिक धान देने को मजबूर है।


क्योंकि के धान केंद्र के मैनेजर और प्रभारी द्वारा प्रति तौल पर अधिक झुकती लेने का फरमान सुनाया गया है। बता दे कि इस केंद्र में किसानों को लूटने के अलावा खरीदी के सारे नियम को दरकिनार कर मनमाने तरीके से धान खरीदा जा रहा है यहां जो किसान धान ला रहे है, उसे सीधे बारदाने में उलट दिया जा रहा है। जबकि किसान के द्वारा एक जगह जमीन में ढेर किया जाना है उसके बाद उसके गुणवत्ता मापी जानी है फिर उस धान को बोरे  में भरकर तौलाया जाना है। 


लेकिन यहाँ नियम सरकार के नहीं अपितु मैनेजर के चलते हैं। जिनकी मनमानी से किसान अधिक धान देने को  मजबूर है। मीडिया  की टीम जब नीमेड धान खरीदी केंद्र मे पहुंची तब एक किसान ने मीडिया को आता देखकर यहां हो रही धांधली की बाते बताई। और कहा हम अधिक धान देने के लिए मजबूर है। मीडिया द्वारा और भी किसानों से बात करने पर पता चला कि इसी नियम के तहत यहां खरीदी की जाती है और किसानों को अधिक धान देना मजबूरी बन गई है।

मामले में जब मैनेजर से बात की गई तो उन्होंने बताया ऐसे ही ख़रीदी कि जाती है यहां। खरीदी केंद्र में अधिक धान लिए जाने को लेकर मिडीया द्वारा दिखाए जाने पर  मैनेजर ने देखने के बावजूद गलती मानने के बजाय किसानो को ही दोष देने लगे। किसान ही अधिक धान तौल रहे है हम नही ले रहे। इस तरह का गैर जिम्मेदाराना जवाब मैनेजर और नोडल के द्वारा दिया गया।