Video गैंगरेप पीड़िता को रातोंरात जलाया गया...दर्जनों पुलिस अधिकारी मौजूद थे लेकिन पीड़िता के परिवारजन नही, मां की चीख भी नही सुनी प्रशासन ने

Video गैंगरेप पीड़िता को रातोंरात जलाया गया...दर्जनों पुलिस अधिकारी मौजूद थे लेकिन पीड़िता के परिवारजन नही, मां की चीख भी नही सुनी प्रशासन ने

नई दिल्ली. अंतत: देश की एक और बेटी, हाथरस की निर्भया मौन हो गई. कल रात को ही पुलिस के संरक्षण में उसे जला दिया गया. आप इसका लाइव वीडियो देख सकते हैं जो एक्सक्लूजिव हमारे पास है. लाश जल रही है..दर्जनों पुलिस अधिकारी खड़े हैं लेकिन वे बता नही रहे कि ये क्या जल रहा है. हाथरस के डीएम ने खुलेआम बयान दिया है कि परिवार की मौजूदगी में, उनकी सहमति से पीड़िता का अंतिम संस्कार रात को ही कर दिया गया लेकिन दाह संस्कार स्थल पर उसके माता—पिता नही थे. सिर्फ पुलिस की मौजूदगी में यह किया गया.  

सिस्टम कितना क्रूर और बेहोश है, यह बयान काफी है. पीड़िता की चीख पूरे देश से सवाल पूछ रही है कि देश की बेटियां कब महफूज हो सकेंगी. आरोप है कि उसके साथ गैंगरेप हुआ लेकिन पुलिस ने अभी तक पुष्टि नही की है. जो पुलिस अपने नाम से उत्तर प्रदेश के अपराधियों में खौफ भर देने का दावा करती है, वही कठघरे में है.

दूसरी ओर हाथरस की निर्भया के लिए पूरा देश इंसाफ मांग रहा है और उत्तर प्रदेश पुलिस अपने बयानों का जाल बुन रही है. ये सवाल अपने आप में काफी नहीं हैं क्योंकि उत्तर प्रदेश के हाथरस की जघन्य वारदात अपने आप में सवाल बनकर सामने खड़ी है. जहां पीड़ित परिवार और पुलिसवालों के बयान आपस में ही गुत्थी को उलझा रहे हैं. सबसे पहला और ताजा विवाद खड़ा हुआ है पीड़ित के अंतिम संस्कार पर. पुलिस की मौजूदगी में गांववालों के गुस्से के बीच रात करीब ढाई बजे पीड़ित का अंतिम संस्कार कर दिया गया लेकिन घरवारों का आरोप है कि ये अंतिम संस्कार उनकी अनुमति के बगैर हुआ है.

पीड़िता की मां का आरोप है कि उसने लाख मिन्नतें की कि बेटी को हल्दी लगाकर विदा करने दीजिए लेकिन पुलिस ने एक नही सुनी. आश्चर्य कि पुलिस ने पिछले 14 सितंबर को कहा था कि गैंगरेप हुआ है लेकिन अभी वह कह रही है कि रेप की पुष्टि अब तक नहीं हुई है.

देखें वीडियो : <blt>