breaking news New

व्यवस्था के नाम पर शिक्षा विभाग में घोटाला ?

व्यवस्था  के नाम पर शिक्षा विभाग में घोटाला   ?

जिला शिक्षा अधिकारी के अधिकारों का हनन    ?
व्यवस्था  में मन माफिक स्थान पर भिजवाने का काम के लिए शिक्षकों का गिरोह   ?

छुरा। गरियाबंद जिले के छुरा विकास खण्ड मुख्यालय में स्थित ब्लाक शिक्षा अधिकारी कार्यालय में शिक्षकों का गिरोह शिक्षकों को एक स्थान से दूसरे मन पंसद स्थान पर भिजवाने का काम करते आ रहा है जो आज भी सक्रिय हैं। छुरा ब्लाक में लगभग पचास से अधिक शिक्षक शिक्षिका ब्यवस्था, अतिशेष एंव युक्ति करण के नाम पर दूरस्थ ग्रामीण अंचल से दूर कस्बे एंव शहर के नजदीक स्कूल में अटैचमेंट में पडे हुये हैं। ग्रामीण अंचल के स्कूल में शिक्षक का टोटा लगा हुआ है। वर्ग दो के शिक्षकों को ब्यवस्था में एक संकुल क्षेत्र से दूसरे संकुल के स्कूल में पदस्थ करने का अधिकार ब्लाक शिक्षा अधिकारी को नहीं है जब तक जिला शिक्षा अधिकारी  से अनुमोदन लेना पड़ता है।
ब्यवस्था में भेजने के लिए मापदंड आठ किलोमीटर की दूरी  है।
लेकिन शासन के नियमों को दरकिनार करते हुए सभी मापदंड का पालन किये बिना हिटलर की तरह ब्लाक शिक्षा अधिकारी कार्यालय में शिक्षकों का पदस्थापना किया गया है जो अपने आप में एक जांच का विषय है।
जनपद पंचायत छुरा मे 25/06/2021 को शिक्षा समिति की बैठक में निर्णय लिया गया कि जितने भी शिक्षक ब्यवस्था में है उन्हें मूल शाला में वापस किया जाये। ब्लाक शिक्षा अधिकारी ने बारह जुलाई 2021 को ब्लॉक के समस्त प्रधान पाठक, संकुल समन्वयक, संकुल केन्द्र प्रभारियों को आदेश जारी किया गया कि जनपद पंचायत के प्रस्ताव अनुसार समस्त शिक्षकों को जो ब्यवस्था में दूसरे स्कूलों में पदस्थ है उन्हें तत्काल उनके मूल शाला के लिए भारमुक्त करे।
जिला शिक्षा अधिकारी करमन खटकर ने समस्त संकुल केन्द्र प्रभारी एंव ब्लाक शिक्षा अधिकारी को आदेश दिया कि किसी भी शिक्षक को भारमुक्त नहीं करे।
तत्कालीन ब्लाक शिक्षा अधिकारी ने अपने पत्र क्रमांक 951दिनांक 26/09/2019 को आदेश में शासकीय माध्यमिक विद्यालय कोठी गांव में पदस्थ शिक्षक वर्ग दो विनीता साहू (एलबी) को माध्यमिक विद्यालय दादरगांव(पु) में अध्यापन कार्य के लिए आदेश जारी किया गया।तत्कालीन ब्लाक शिक्षा अधिकारी ने एक वर्ष के बाद विनीता साहू के लिए आदेश क्रमांक 374 ब्यवस्था /26/08/2020 में आदेशित किया कि स्वास्थ्य एंव परिवारिक कारणों को दृष्टिगत रखते हुए माध्यमिक विद्यालय दादरगांव पु से माध्यमिक विद्यालय सरकडा संकुल पाण्डुका में अध्यापन कार्य के लिए आदेशित किया गया। जो अनेकों संदेहों को जन्म देती है।
कोठी गांव से पु दादरगांव की दूरी सोलह किलोमीटर है एंव दादरगांव पु से सरकडा की दूरी पैंतीस किलोमीटर है। दादरगांव से ब्लाक मुख्यालय छुरा की दूरी चार किलोमीटर है छुरा मे सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र है नर्सिंग होम है क्या स्वास्थ्य का इलाज संभल नहीं है। सरकडा मे पीएचसी भी नहीं है फिर इलाज ?
तथ्य हीन हवाला देकर ब्यवस्था करना ही बहुत कुछ अपने आप में बया करती है।
ब्लाक में एक ही विनिता साहू नहीं है बहुत सारे ऐसे अनेकों मामले है।
सभी अटैचमेंट में है इन्हें मूल शाला वापस किया जाता है तो गिरोह का जिन्न बाहर आयेगा।
आज कोठी गांव माध्यमिक विद्यालय में मात्र एक शिक्षक है एक सौ दस छात्र छात्राओं के लिए।
शिक्षा विभाग में भ्रष्टाचार का आलम यह है कि पग पग में घोटालों का घालमेल है नीचे से ऊपर तक सभी के हाथ रंगे हुए हैं।
सभी मुद्दों को लेकर प्रतिनिधि मंडल राजधानी में राज्य पाल, शिक्षा मंत्री, शिक्षा सचिव को ज्ञापन सौंपकर जांच की मांग करेगें।
जिला शिक्षा अधिकारी गरियाबंद करमन खटकर :---ब्लाक शिक्षा अधिकारी को वर्ग दो के शिक्षकों को ब्यवस्था में भेजने के पहले जिला शिक्षा अधिकारी से अनुमोदन लेना चाहिए। बैगेर अनुमोदन का ब्यवस्था ब्लाक शिक्षा अधिकारी द्वारा किया गया है तो नियम विरुद्ध है मामले को देखता हूँ उचित कार्यवाही की जाएगी।