लॉकडाउन को लेकर ऑनलाइन सर्वे : पब्लिक वॉइस के सर्वे में 55 प्रतिशत तालाबंदी के पक्ष में

 लॉकडाउन को लेकर ऑनलाइन सर्वे : पब्लिक वॉइस के सर्वे में 55 प्रतिशत तालाबंदी के पक्ष में

जगदलपुर। कोरोना का कम्युनिटी ट्रांमिशन शुरू होने के बाद से ही लॉक-डाउन करने अथवा न करने को लेकर शहर पक्ष-विपक्ष दो घड़ों में बटी हुई है। इस स्थिति को देखते हुए पब्लिक वॉइस की टीम ने छोटे फुटकर व्यापारियों से मिलकर उनका राय जानने का प्रयास किया। 

टीम के सदस्यों ने लालबाग और दलपत सागर के समीप बैठे सब्जी व्यापारियों से सीधे पूछा कि लॉक-डाउन होना चाहिए या नहीं, जिस पर लोगों की मिली-जुली प्रतिक्रिया देखने को मिली। इस सर्वे में लगभग 45 प्रतिशत व्यापारियों ने कहा सख्त लॉक-डाउन होना चाहिए और लगभग इतने ही लोगों ने कहा अभी नहीं होना चाहिए और अगर लॉक-डाउन की आवश्यकता भी पड़े तो सभी छोटे व्यावसायियों की रोजी-रोटी के व्यवस्था कर बंद करना चाहिए सिर्फ बड़े और धनाढ्य व्यापारियों की दिशा निर्देश या अपील से शहर बंद नहीं करना चाहिए।

ज्यादातर व्यापारियों ने कहा कि कोरोना का जब तक दवा नहीं मिल जाता तब तक प्रशासन को इसके चैन तोड़ने के लिए वैकल्पिक व्यवस्थाओं पर भी विचार करना चाहिए।

पब्लिक वॉइस के रोहित सिंह आर्य, हरीश पारेख, परमेश राजा, गोपाल तीरथानी और मितेश पाणिग्रही ने कहा कि पब्लिक वॉइस द्वारा गूगल फार्म के जरिये तालाबंदी को लेकर किये गए एक सर्वे में भी लगभग मिलीजुली प्रतिक्रिया मिली है जिसमे 55 प्रतिशत तालाबंदी के पक्ष में है और 40 प्रतिशत इसके विरोध में है और शेष असमंजस में होने की बात कही। सदस्यों ने कहा सर्वे लगातार जारी है। आर्य ने इस विषय में कहा है कि लॉक-डाउन गरीबों और रोज कमा कर रोज खाने वालों के जरूरतों को ध्यान में रख कर किया जाना चाहिए।