breaking news New

यूनियन वेरीफिकेशन के दौरान उपजे विवाद को लेकर बीएमएस का धरना प्रदर्शन देर रात तक जारी रहा

यूनियन वेरीफिकेशन के दौरान उपजे विवाद को लेकर बीएमएस का धरना प्रदर्शन देर रात तक जारी रहा

सूरजपुर। एसईसीएल भटगांव क्षेत्र के नवापारा भूमिगत परियोजना में बीते दिवस दो पक्षों में हुई मारपीट के उपरांत मामला को गंभीरता से उठाते हुए बीएमएस ट्रेड यूनियन के द्वारा धरना प्रदर्शन शुरू कर दिया गया था। जो देर रात 9:30 बजे के करीब अरविंद कुमार जीएम ऑपरेशन भटगांव के द्वारा लिखित में आश्वासन देने के उपरांत मामला को शांत कर कार्यालय में बंद अधिकारियों को बाहर निकाला जा सका। 

उल्लेखनीय है कि एसईसीएल भटगांव क्षेत्र के विभिन्न खदानों में यूनियन वेरिफिकेशन का कार्य बड़ी शांति पूर्वक संपन्न हो ही रहा था कि इसी बीच भीड़ वेकेशन के दूसरे दिन नवापारा भूमिगत परियोजना में एचएमएस के यूनिट सचिव शिवमंगल सिंह एवं बीएमएस के वेलफेयर सदस्य सुनील श्रीवास्तव के बीच कहासुनी हो गई। धीरे-धीरे मामला इतना तूल पकड़ने लगा कि दोनों ही आपस में भिड कर जमकर मारपीट कर ली।  जिसके पश्चात वहां उपस्थित श्रमिकों के द्वारा बीच-बचाव कर मामला को शांत किया जा सका। वही मारपीट के दौरान सुनील श्रीवास्तव को पैर में गंभीर चोट आई। जिसके बाद ड्यूटी में उपस्थित एंबुलेंस ड्राइवर द्वारिका जायसवाल की खोजबीन की जाने लगी। परंतु 1 घंटे बीत जाने के उपरांत भी एंबुलेंस ड्राइवर की पतासाजी नहीं लगने पर उपस्थित श्रमिकों के द्वारा प्राथमिक उपचार हेतु लटोरी स्थित सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र ले जाया गया। जहां डॉक्टरों के द्वारा प्राथमिक उपचार उपरांत पैर में गंभीर चोट आने के कारण हायर सेंटर ले जाने की बात कही गई। जिसके पश्चात परिजनों के द्वारा लटोरी चौकी पहुंचकर एफ आई आर दर्ज कराई गई थी। इसी बीच एचएमएस के सदस्यों की उपस्थिति में शिवमंगल सिंह ने भी अपना एफ आई आर दर्ज कराया। जिसके पश्चात बीएमएस ट्रेड यूनियन के क्षेत्रीय पदाधिकारी समेत श्रमिक सदस्यों के द्वारा खान परिसर स्थित कार्यालय में बैठे चार अधिकारियों को तालाबंदी कर नारेबाजी करते हुए धरना प्रदर्शन पर बैठ गये एवं मामले की जांच कर दोषियों के विरुद्ध कार्रवाई की मांग के लिए अड़े रहे। जिसके पश्चात देर रात 9:30 बजे क्षेत्रीय जीएम ऑपरेशन अरविंद कुमार नवापारा माइंस पहुंचकर लिखित में आश्वासन दिया। जिसके बाद आंदोलन में बैठे बीएमएस के पदाधिकारी एवं श्रमिक ने अपना आंदोलन समाप्त किया। 

सरफेस में कार्यरत 65 कर्मचारी जाएंगे अंदरग्राउंड।

जीएम ऑपरेशन ने आंदोलनकारियों से चर्चा के दौरान कहा कि अंडरग्राउंड के 65 कर्मचारियों से प्रबंधन के द्वारा सरफेस में काम लिया जा रहा है। जिसकी जानकारी मुझे नहीं है अगर नियम विरुद्ध तरीके से कोई कर्मचारी अंदर ग्राउंड का भत्ता लेकर सरफेस में कार्य कर रहा है। तो यह बिल्कुल गलत है। निश्चय ही मामले की जांच कर सभी कर्मचारियों का अंदरग्राउंड भेजा जाएगा।