breaking news New

छत्तीसगढ़ योग आयोग की अनूठी पहल : कोविड महामारी से लडऩे योगाभ्यास बना वर्चुअल साधन

छत्तीसगढ़ योग आयोग की अनूठी पहल : कोविड महामारी से लडऩे योगाभ्यास बना वर्चुअल साधन

13,500 लोग रजिस्ट्रेशन कराकर सोशल प्लेटफार्म पर ले रहे लाभ
रायपुर ।  करें योग रहें निरोग की भावना को चरितार्थ करते हुए छत्तीसगढ़ योग आयोग ने कोरोनाकाल के दौरान बेहतर स्वास्थ्य के लिए वर्चुअल योगाभ्यास का शुभारंभ किया है, ताकि कोरोना के सक्रमण से बचाव के साथ ही लोगों की रोग प्रतिरोधक क्षमता में विकास हो सके और लोग इस महामारी एवं अन्य वायरस से डटकर मुकाबला कर सकें। कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए नियमित रूप से योग करना शरीर के लिए बहुत फायदेमंद है। इससे शरीर दुरुस्त रहता है और मानसिक तनाव भी कम होता है।
छत्तीसगढ़ योग आयोग, समाज कल्याण विभाग एवं स्वास्थ्य विभाग के संयुक्त तत्वधान में शुरू हुए वर्चुअल योगाभ्यास के माध्यमों से यू ट्यूब, फेसबुक, ट्वीटर और इंस्टग्राम के जरिए लोग योगाभ्यास कर रहे हैं। योगाभ्यास के लिए अब तक 13,500 लोग रजिस्ट्रेशन कराकर सुबह और शाम एक-एक घंटे का योगाभ्यास कर, निरोगी काया पाने के प्रयास में जुटे हैं। हालांकि योगाभ्यास के लिए रजिस्ट्रेशन का क्रम निरंतर जारी है। कोविड से रिकवर हुए व्यक्ति, घरों में आसोलेशन, कोरेंटाइन, संक्रमित परिवार के सदस्य एवं असंक्रमित व्यक्ति सुबह और शाम के समय योग का लाभ ले रहे हैं।समाज कल्याण विभाग की डिप्टी डायरेक्टर आशा शुक्ला ने बताया स्वस्थ्य तन और मन के लिए योग सदा ही उपयोगी रहा है। कोरोनाकाल में बहुत सी योग क्रियाएं प्राणायाम, आसन एवं बंद आदि को विशेषज्ञों द्वारा प्रभावशाली माना गया है। इसी को दृष्टिगत रखते हुए सोशल मीडिया माध्यमों से वर्चुअल योगाभ्यास नियमित रूप से दो सत्रों में करवाया जा रहा है। योग प्रशिक्षक एवं फिजियोथेरेपिस्ट दे रहे सेवा- वर्चुअल योगाभ्यास के दौरान सुबह और शाम 6 से 7 बजे तक योग प्रशिक्षक एवं फिजियोथेरेपिस्ट लोगों को योग प्राणायाम आसान के बारे में बता रहे हैं। उक्त कार्यक्रम में छत्तीसगढ़ योग आयोग के प्रशिक्षक एवं फिजियोथेरेपिस्ट सेवाएं दे रहे हैं। इसके अलावा सामाजिक कार्यकर्ता, सभी जिलों के मानसिक रोग सलाहकार, वृद्धाश्रम के प्रशिक्षकों आदि को भी जोड़ा गया है। योगाभ्यास के दौरान शरीर में ऑक्सीजन के स्तर को बढ़ाने, तनावमुक्ति एवं रोग प्रतिरोधक क्षमता को विकसित करने के लिए कई तरह के आसन प्राणायाम करवाए जा रहे हैं। साथ ही लोगों को रोगों से लडऩे के लिए योग को इम्यूनिटी बूस्टर के रूप में अपनाने और नियमित रूप से योगाभ्यास करने की सलाह भी दी जा रही है।